पब्लिक अलर्ट:बैंकिंग कानून संशोधन विधेयक के विरोध में कल से 2 दिन 200 बैंक हड़ताल पर

बीकानेरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भारत सरकार संसद के वर्तमान सत्र में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों का निजीकरण करने के लिए लिए बैंकिंग कानून संशोधन विधेयक 2021 ला रही है। इसी विधेयक के विरोध में यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन के आह्वान पर देशभर में सभी सार्वजनिक बैंक के 10 लाख कर्मचारी 16 व 17 दिसंबर को हड़ताल पर रहेंगे। यानी गुरुवार व शुक्रवार को बैंक बंद रहेंगे। इस बार हड़ताल में बैंक के सहायक महाप्रबंधक स्तर तक के अधिकारी भी में शामिल हो रहे हैं जिससे एटीएम सेवा भी बाधित होंगी।

बैंक की तरफ से एटीएम में रुपए डालने का कार्य केवल बुधवार को किया जाएगा। ऐसे में जिस एटीएम में कैश खत्म हो जाएगी, वहां रिफिल शनिवार से पहले नहीं हो सकेगी। हड़ताल के कारण अंतरण लेनदेन, नकदी लेनदेन, मनी ट्रांसफर, समाशोधन जैसे कोई भी बैंकिंग कार्य नहीं होंगे।

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ऑफिसर्स एसोसिएशन के रीजनल सेक्रेटरी एमएमएल पुरोहित ने बताया कि सार्वजनिक बैंकाें का निजीकरण हमारे विकासशील देश के हित में नहीं रहेगा। निजी क्षेत्र के बैंक पब्लिक को सरकारी योजनाओं के लिए ऋण नहीं देते, अगर हमारे बैंक भी निजी हो गए तो आम आदमी को ये ऋण नहीं मिल पाएंगे। इससे देश की आर्थिक विकास की गति कमजोर होगी।

आंदोलन... 3 दिसंबर से शुरू हुआ विरोध, वाहन-पैदल रैली निकालेंगे
यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन के आह्वान पर 3 दिसंबर से इस विधेयक के विरोध में आंदोलन शुरू हुआ। 7 दिसंबर को पीपी ब्रांच के सामने विरोध प्रदर्शन किया गया। 9 दिसंबर को काले बैज बांधकर विरोध जताया गया। 13 को मास्क धारण का विरोध जताया। अब 16 को सुबह 11 बजे बैंक ऑफ बड़ौदा, स्टेशन रोड से जिला कलेक्टर तक दुपहिया वाहन रैली निकाली जाएगी। 17 को पीपी ब्रांच से पैदल रैली जिला कलेक्टर कार्यालय तक निकाली जाएगी।

खबरें और भी हैं...