अघोषित बिजली कटौती:रोज 35 लाख यूनिट कम मिल रही बिजली, नतीजा- गांवों में करोड़ों का कारोबार ठप

बीकानेर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • रोजाना 6 से 10 घंटे अघोषित कटौती, सैकड़ों इंडस्ट्रीज यूनिट बंद

प्रदेश में गहराते कोयले संकट को देखते हुए गांवों में अघोषित बिजली कटौती खेतीहर किसानों के साथ-साथ कारोबारियों पर भी भारी पड़ रही है। जिले के ग्रामीण एरिया में रोजाना एक करोड़, 35 लाख यूनिट बिजली की खपत होती है, लेकिन कुल खपत की एवज में महज एक लाख यूनिट बिजली ही मिल रही है। ऐसे में हर दिन 6 से 10 घंटे अघोषित बिजली कटौती की जा रही है। कटौती का सीधा असर गांवों में स्थापित इंडस्ट्रीज यूनिट पर पड़ रहा है। इसमें लघु उद्योग से लेकर बड़ी यूनिट तक शामिल है, जहां रोजाना करोड़ों रुपए का कारोबार होता है।

चिंता की बात यह है कि बिजली नहीं मिलने से गांवों की सैकड़ों यूनिट अब बंद होने के कगार पर पहुंच चुकी है। कुछ कारोबारियों ने तो गहराते बिजली संकट के चलते अपनी यूनिट कुछ दिनों के लिए बंद कर दी है। कारोबारियों का कहना है कि बिजली नहीं मिलने से यूनिट चल नहीं रही, जबकि श्रमिकों को हर दिन का भुगतान करना पड़ता है। वहीं कारोबारी अपने ऑर्डर भी पूरे नहीं कर पा रहे हैं। ग्रामीण एरिया में कुल 3.5 लाख बिजली कनेक्शन है, जिसमें 50 हजार कृषि कनेक्शन और 3 लाख घरेलू, इंडस्ट्रीज आदि शामिल है।

नापासर उद्योग संघ के अध्यक्ष किशन लाल मोहता बताते हैं कि नापासर में भुजिया-पापड़, फ्वारा, मूंगफली दाना, सिरेमिक टाइल, कपड़े सहित सैकड़ों यूनिट लगी है। लेकिन बिजली संकट के चलते इंडस्ट्रीज यूनिट काम नहीं कर रही है। मोहता के अनुसार बिजली संकट के चलते अकेले नापासर में रोजाना चार से पांच करोड़ रुपए का कारोबारियों को नुकसान उठाना पड़ रहा है। नापासर की तरह श्रीकोलायत में भी सैकड़ों बजरी और अन्य मिनरल्स प्रोसेसिंग यूनिट लगी हुई है, लेकिन उन्हें पर्याप्त बिजली नहीं मिलने से कारोबार प्रभावित हो रहा है। इंडस्ट्रीज के साथ-साथ श्रीकोलायत, बज्जू, दियातरा, लूणकरनसर, खाजूवाला, श्रीडूंगरगढ़, नोखा, नापासर, मूंडसर आदि एरिया में खेतीहर किसानों को दिन में 6 से 10 घंटे की बिजली कटौती का सामना करना पड़ रहा है।

पालिका क्षेत्रों में 5 से 6 बजे तक बंद रहेगी बिजली
जोधपुर विद्युत वितरण निगम ने गुरुवार को नगर पालिका क्षेत्र में एक घंटे की घोषित कटौती करने की घोषणा कर दी। जोधपुर विद्युत वितरण निगम के एसई लाभ सिंह मान के अनुसार देशनोक, नोखा तथा श्रीडूंगरगढ़ नगर पालिका में शाम 5 से 6 बजे तक बिजली की घोषित कटौती होगी। फिलहाल बीकानेर शहरी क्षेत्र को घोषित कटौती में शामिल नहीं किया गया है।

शहर में कम हुई खपत
बीकानेर जिले के शहरी क्षेत्रों में बिजली खपत कम होने के बावजूद ग्रामीण एरिया में पर्याप्त बिजली आपूर्ति नहीं मिल रही है। बीकानेर शहरी एरिया में पिछले माह रोजाना करीब 29 लाख यूनिट बिजली की खपत थी, लेकिन अब घटकर प्रतिदिन खपत 25 लाख यूनिट हो गई है। वहीं शहरी क्षेत्र में करीब एक लाख, 70 हजार बिजली कनेक्शन है।

ये बोले अधिकारी
कोयला संकट को देखते हुए गांवों में मजबूरन बिजली की अघोषित कटौती करनी पड़ रही है। हमें रोजाना एक लाख 35 हजार यूनिट की जरूरत है, लेकिन एक लाख यूनिट बिजली ही मिल रही है। सूरतगढ़ थर्मल पावर की यूनिट चालू होने के बाद ऐसी उम्मीद जताई जा रही है कि बिजली संकट कम होगा। -लाभ सिंह मान, एसई, जोधपुर विद्युत वितरण निगम

खबरें और भी हैं...