पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

वर्ल्ड नो टोबेको-डे:40 फीसदी टीबी रोगी तंबाकू के आदी, इनमें से 20% को दोबारा टीबी हो रही

बीकानेर25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
डाॅ.सीएस मोदी - Dainik Bhaskar
डाॅ.सीएस मोदी
  • गांवों में कोविड के संक्रमण की चपेट में आए कितने रोगी चिलम-तंबाकू वाले हैं इनका अध्ययन करेगी टीबी क्लीनिक

बीकानेर सहित प्रदेशभर में 42 हजार व्यक्तियों पर किए गए एक सर्वे के मुताबिक 15 से 49 वर्ष के 46.9 प्रतिशत लोग किसी न किसी रूप में तंबाकू का सेवन कर रहे हैं। इसमें बीड़ी, सिगरेट, हुक्का, चिलम, पान, खैनी, गुटखा आदि शामिल हैं। हैरानी की बात यह है कि इस उम्र की लगभग छह प्रतिशत लड़कियां-महिलाएं भी अब तंबाकू का सेवन कर रही है।

डिस्ट्रिक्ट टीबी-एड्स कंट्रोल कमेटी की टोबेको इन्फार्मेशन रिपोर्ट के मुताबिक, बीकानेर में रिपोर्ट हो रहे टीबी रोगियों में से 40 प्रतिशत किसी न किसी रूप में तंबाकू ले रहे हैं। इससे भी ज्यादा चिंता की बात यह है कि तंबाकू का सेवन करने वाले वाले कुल टीबी रोगियों में 20 प्रतिशत ऐसे हैं जिनमें यह बीमारी एक बार ठीक होने के बाद दुबारा भी हो रही है। मतलब यह कि तंबाकू की वजह से न केवल उनकी टीबी के प्रति इम्युनिटी कम हो रही है वरन बार-बार संक्रमण की चपेट में भी आ रहे हैं। डॉक्टर्स का मानना है कि कमोबेश ऐसी ही स्थिति कैंसर केा लेकर भी है। आचार्य तुलसी कैंसर हॉस्पिटल में रिपोर्ट हो रहे कैंसर रोगियों में से ऐसे मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है जिनमें इस बीमारी का कारण तंबाकू है।

एक्सपर्ट व्यू: देश में हर मिनट में दो मौतें तंबाकू से हो रहीं

ग्लोबल एडक्ट सर्वे-टू बताती है कि देश में 27 करोड़ लोग तंबाकू का सेवन कर रहे हैं। हर साल 9.30 लाख मौतें धूम्रपान और 9.50 लाख मौतें धुंआरहित तंबाकू से हो रही है। डब्ल्यूएचओ की एक रिपोर्ट कहती है कि देश में 30 वर्ष से अधिक उम्र वालो की कुल मौतों में से सात प्रतिशत की वजह कहीं न कहीं तंबाकू होती है। बीकानेर में टीबी क्लीनिक के साथ ही टोबेको क्लीनिक चला रहे हैं। तंबाकू छुड़वाने के प्रयास करते हैं। यहां जितने भी टीबी रोगी आ रहे हैं उनमें 40 प्रतिशत किसी न किसी तरह से तंबाकू का सेवन करने वाले हैं। ऐसे रोगियों में बीमारी जल्दी ठीक नहीं हो रही। कइयों में ठीक होने के बाद दुबारा हो रही है।

डाॅ.सीएस मोदी बीकानेर डिस्ट्रिक्ट टीबी एंड एड्स कंट्रोल अधिकारी हैं।

खबरें और भी हैं...