पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना अपडेट:705 नए केस; 13 लोगों की हुई मौत, कुल एक्टिव केस 9314 हुए

बीकानेरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक फोटो। - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक फोटो।

कोरोना का कहर थम नहीं रहा है। लोगों की लापरवाहियों के कारण 21 दिन में 143 लोगों की मौत हो चुकी है। कम जांच के बाद भी संक्रमण की दर 30% से नीचे नहीं आ रही। आम लोगों के साथ-साथ सेना के जवान भी इसकी चपेट में आने लगे हैं। बीएसएफ, आर्मी के बाद एयर फोर्स के जवान भी संक्रमित होने लगे हैं।

शुक्रवार को 705 नए केस सामने आए हैं। गुरुवार को 2131 लोगों की आर-अपीसीआर जांच हुई थी, जिसकी सुबह की रिपोर्ट में 551 को तथा शाम को 154 केस आए हें। गुरुवार को बीकानेर में 2788 सैंपल की जांच में 889 केस पॉजिटिव आए थे। संक्रमण की दर 32% थी। जबकि शुक्रवार को संक्रमण की दर 33% दर्ज हुई है। यानी कम सैंपलिंग के बावजूद पॉजिटिव रेट अधिक है। कुल एक्टिव केस 9314 हैं। इनमें से 8369 होम आइसोलेट हैं।

बिना जांच रिपोर्ट के आ रहे प्रवासी: बीकानेर में कोरोना फैलने का सबसे बड़ा कारण बाहरी लोगों का आना-जाना रहा। रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड, एयरपोर्ट पर भी पॉजिटिव केस आ रहे हैं। जो प्रवासी बीकानेर आ रहे हैं वो कोई जांच लेकर नहीं आते। ऐसे में उनके टेस्ट इन्हीं तीन स्थानों पर किए जाते हैं। प्रति दिन यहां लिए जाने वाले सैंपल से बीस से तीस पॉजिटिव केस आ रहे हैं।

जिला अस्पताल के चौंकाने वाले आंकड़ों का मतलब...परकोटा फिर बुरी तरह चपेट में : जस्सूसर गेट स्थित जिला अस्पताल, सैटेलाइट में कोरोना रोगियों की संख्या बढ़ रही है। यहां अब हर दूसरा टेस्ट पॉजिटिव आने के हालात बन गए हैं। इस अस्पताल में परकोटे के भीतर स्थित मोहल्लों के अलावा बंगला नगर, जस्सूसर गेट के बाहर, जवाहर नगर, मुरलीधर व्यास नगर, मुक्ताप्रसाद नगर, सर्वोदय बस्ती, चौखूंटी, राजीव नगर, फोर्ट डिस्पेंसरी, गंगाशहर और तिलक नगर डिस्पेंसरी क्षेत्र कोरोना के हॉटस्पॉट बने हुए हैं। गंगाशहर स्थित सैटेलाइट अस्पताल में भी पॉजिटिव का आंकड़ा हर रोज सौ तक पहंच रहा है।

जिला अस्पताल; सैंपलिंग में हर दूसरा पॉजिटिव मिला, 2 दिन में 400 रोगी

बीकानेर, कोरोना के सबसे ज्यादा मरीज सेटेलाइट अस्पताल में बने सैंपल कलेक्शन सेंटर से रिपोर्ट हो रहे हैं। पिछले दो दिन में चार सौ से अधिक पॉजिटिव केस आए हैं। हर दूसरा सैंपल पॉजिटिव मिल रहा है। शुक्रवार को पौने दो सौ पॉजिटिव केस मिले हैं। पीबीएम हॉस्पिटल में कोरोना वार्ड फुल होने के साथ ही अब जिला (सैटेलाइट) अस्पताल में भी रोगियों को भर्ती करने का सिलसिला शुरू हो गया है।

अच्छी बात यह है कि यहां ऑक्सीजन सपोर्ट के बेड की संख्या 40 हो गई है। शहर में पीबीएम अस्पताल के बाद यह पहला सरकारी अस्पताल है, जहां कोरोना रोगियों को भर्ती का सिलसिला शुरू हुआ है। सेटेलाइट अस्पताल के प्रमुख चिकित्सा अधिकारी डॉ. प्रवीण चतुर्वेदी ने बताया कि अस्पताल में एसी वार्ड तैयार किया गया है, जहां अभी 40 बेड की सुविधा दी गई है। इसमें 17 रोगी भर्ती हो चुके हैं।

अस्पताल में सभी चालीस बेड्स पर ऑक्सीजन की व्यवस्था की गई है। इनमें बीस पर ऑक्सीजन सिलेंडर रखे गए हैं, जबकि शेष बीस पर कंसंट्रेटर के जरिए ऑक्सीजन पहुंचाई जाएगी। इनसे चौबीस घंटे ऑक्सीजन मिल सकती है। बीस ऑक्सीजन कंसंट्रेटर भी सरकार ने ही उपलब्ध कराएं हैं। इसके अलावा बीस ऑक्सीजन सिलेंडर में पंद्रह सिलेंडर कोरोना सहायता कोष की ओर से दिए गए हैं।

खबरें और भी हैं...