कलेक्टर बोले:कोरोना गाइडलाइन की अनदेखी करने वालों पर अब फील्ड में रहकर सख्ती बरतो

बीकानेर4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जिला कलेक्टर नमित मेहता।(फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
जिला कलेक्टर नमित मेहता।(फाइल फोटो)

रोजाना तेजी से बढ़ते कोविड मरीजों पर कलेक्टर ने चिंता जताई और ज्वाइंट एनफोर्समेंट टीमों की मीटिंग लेकर कहा कि कोविड गाइडलाइन की पालना के लिए समझाइश बहुत हो चुकी। अब फील्ड में रहकर लगातार चेकिंग करो और अनदेखी करनेन वालों के खिलाफ सख्ती बरतो।

बीकानेर में कोरोना संक्रमण तेजी से फैल रहा है। इसके बावजूद लोग बाजारों में बिना मास्क घूमकर लापरवाही बरत रहे हैं। कोरोना गाइडलाइन की पालना के लिए प्रशासनिक और पुलिस के अधिकारियों की सात जेईटी बनाई गई थी, लेकिन वे फील्ड में नजर नहीं आईं। मरीजों का आंकड़ा रोजाना बढ़ते हुए 550 होता देख कलेक्टर ने गुरुवार को जेईटी और स्वास्थ्य अधिकारियों की मीटिंग ली। सातों जेईटी से कहा कि वे मुस्तैदी से फील्ड में चैकिंग सख्ती कार्रवाई करें। मास्क नहीं लगाने और बेवजह इकट्‌ठा होने वालों के चालान काटें। रात को आठ बजे के बाद दुकानें खुली मिले तो सीज कर दें। सख्ती जरूरी है, जिससे कि कोरोना की चौन को तोड़ा जा सके। वीकेंड कर्फ्यू के प्रति भी सख्ती से लागू करें।

बेवजह घरों से बाहर निकलने वालों पर कार्यवाही की जाए। कलेक्टर ने धार्मिक स्थलों, कॉलेजों में प्रोटोकॉल की पालना करवाने, सैम्पलिंग की संख्या बढ़ाने, बाहर से आने वाले प्रत्येक व्यक्ति की स्क्रीनिंग करने, अस्पतालों में पूरी तैयारी रखने के निर्देश दिए। इस दौरान जिला परिषद की मुख्य कार्यकारी अधिकारी नित्या के., एडीएम प्रशासन बलदेवराम धोजक, एडीएम सिटी अरुणप्रकाश शर्मा, पीबीएम अस्पताल अधीक्षक डॉ. परमिंदर सिरोही, सहायक औषधि नियंत्रक सुभाष मुटनेजा आदि मौजूद रहे।

दूसरे राज्यों से आने वालों की आरटीपीसीआर व वैक्सीन की डबल डोज जरूरी
कलेक्टर ने पूर्व में जिले के सीमाई क्षेत्रों में चेकपोस्ट लगाकर बाहर से आने वालों की स्क्रीनिंग के लिए कहा था जिसकी पालना नहीं हो पाई थी अब आदेश जारी कर चेकपोस्ट बना दी गई हैं। श्रीडूंगरगढ़ में जयपुर रोड कीतासर, लूणकरणसर में एनएच 62 अर्जुनसर, नोखा में एनएच 62 चरकड़ा चौकी, छत्तरगढ़ में खारवाली, 465 आरडी और खरबारा, खाजूवाला में कुंडल फांटा, कोलायत में नोखड़ा बोर्डर एनएच 11 तथा बज्जू में बीकमपुर फांटा में चेकपोस्ट स्थापित की गई है।

इन चेक पोस्टों पर राज्य के बाहर से आने वाले यात्रियों को यात्रा शुरू करने के 72 घंटे के अंदर करवाई गई आरटी-पीसीआर नेगेटिव जांच रिपोर्ट अथवा डबल डोज वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट की जाएगी। अगर किसी ने सर्टिफिकेट नहीं दिया तो गंतव्य पर पहुंचने पर आरटी-पीसीआर जांच करवानी होगी और रिपोर्ट नेगेटिव आने तक उसे सात दिन संस्थागत/होम क्वारंटाइन किया जाएगा। चेकपोस्टों पर चिकित्सा कार्मिकों की राउंड द क्लॉक ड्यूटी लगाई जाएगी।

खबरें और भी हैं...