पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bikaner
  • Big Congress Faces Of Bikaner Were Not Visible For The Protest, With Formality, Fifteen And Twenty Workers Got A Photo Session Done At The Petrol Pump.

पेट्रोल-डीजल कीमतों का विरोध:बीकानेर के बड़े कांग्रेसी नेता विरोध में नजर नहीं आये, औपचारिकता के साथ पंद्रह बीस कार्यकर्ताओं ने पेट्रोल पंप पर करवाया फोटो सेशन

बीकानेर6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बीकानेर में ऐसे हुआ विरोध। - Dainik Bhaskar
बीकानेर में ऐसे हुआ विरोध।

पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों के विरोध में कांग्रेस ने प्रदेशभर में शुक्रवार को विरोध प्रदर्शन किया था लेकिन बीकानेर में इसके प्रति कांग्रेस के बड़े नेताओं ने कोई खास रुचि नहीं दिखाई। यही कारण है कि कांग्रेस के महज पंद्रह बीस कार्यकर्ताओं ने एक पेट्रोल पंप के आगे पहुंचकर फोटोग्राफी करवाई, वहीं कुछ कार्यकर्ताओं ने जिला कलक्टर को ज्ञापन देकर जिम्मेदारी की इतिश्री कर ली।

बीकानेर में कांग्रेस से दो मंत्री और एक विधायक है। इसके बाद भी शहर में हुए विरोध में कोई नजर नहीं आया। ऊर्जा मंत्री डॉ. बी.डी. कल्ला, उच्च शिक्षा मंत्री भंवरसिंह भाटी और विधायक गोविन्दराम मेघवाल बीकानेर शहर में हुए विरोध प्रदर्शनों से नदारद थे। हालांकि लूणकरनसर में एक प्रदर्शन में पूर्व मंत्री वीरेंद्र बेनीवाल जरूर नजर आये।

बीकानेर में अंबेडकर सर्किल पर कांग्रेस नेताओं ने पहुंचकर कुछ देर नारेबाजी की और मीडिया की फोटो व वीडियोग्राफी खत्म होने के साथ ही सभी कार्यकर्ता निकल गए। बीकानेर शहर के अलावा ग्रामीण क्षेत्र के प्रदर्शन में वीरेंद्र बेनीवाल के अलावा कोई बड़ा नाम नहीं था। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के निर्देशों के बाद भी कांग्रेस ने यहां इस विरोध को ज्यादा गंभीरता से नहीं लिया। यहां पार्टी के वरिष्ठ नेताओं में डॉ. बी.डी. कल्ला, भंवर सिंह भाटी, गोविन्द मेघवाल , रामेश्वर डूडी, मकसूद अहमद, शहर कांग्रेस अध्यक्ष यशपाल गहलोत भी किसी विरोध में नजर नहीं आये।

जो विरोध में आए, वो कोरोना गाइडलाइन भूले

अंबेडकर सर्किल पर विरोध प्रदर्शन करने वाले कांग्रेसी नेता कोविड प्रोटोकॉल को भूल गए। मास्क तो अधिकांश ने लगा रखा था लेकिन किसी के नाक से नीचे तो किसी के मुंह सेनीचे रहा। इतना ही नहीं सोशल डिस्टेंसिंग का बिल्कुल पालन नहीं हुआ। कोरोना के इस दौर में इस तरह की लापरवाही सत्तारुढ़ पार्टी ही कर रही है तो आम आदमी से कैसे शिकायत की जाए।

खबरें और भी हैं...