रम्मत फेस्टिवल में कार्यक्रम का आयोजन:रम्मत फेस्टिवल से बीकानेर के लोक नाट्य को मिलेगी नई पहचान: कल्ला

बीकानेर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कला एवं संस्कृति मंत्री डॉ. बीडी कल्ला ने कहा कि रम्मत फेस्टिवल से बीकानेर के लोकनाट्य रम्मत को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक नई पहचान मिल सकेगी। डॉ. कल्ला ने शनिवार को महाराजा गंगा सिंह विश्वविद्यालय के रम्मत पार्क में चल रहे रम्मत फेस्टिवल के दूसरे दिन आयोजित कार्यक्रम में यह बात कही। उन्होंने कहा कि रम्मतों का इतिहास, बीकानेर के इतिहास के साथ जुड़ा है।

होली के आगमन से पूर्व रम्मतों का आयोजन शहर के सामाजिक ताने-बाने को और अधिक मजबूत बनाता है। उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी ने कहा कि विश्वविद्यालय द्वारा रम्मत पार्क का निर्माण करवाने और इस पर ऐसे कार्यक्रम आयोजित करने से युवा अपनी सांस्कृतिक पहचान से रूबरू हो सकेंगे। उन्होंने कहा कि बीकानेर में रम्मत खेलने की परम्परा सैकड़ों वर्षो से रही है।

कुलपति प्रो. वी. के. सिंह ने कहा कि रम्मत महोत्सव के दौरान ग्यारह रम्मतों का मंचन होगा। दूसरे दिन आचार्यों के चौक की अमर सिंह राठौड़ रम्मत, बिस्सों के चौक की भक्त पूरणमल की रम्मत, बारह गुवाड़ की नौटंकी शहजादी की रम्मत तथा बारह गुवाड़ की स्वांग मेहरी की रम्मत का मंचन किया गया। इस दौरान भारती और राहुल जोशी द्वारा लोकगीतों की प्रस्तुति दी गई। आयोजन सचिव डॉ बिट्ठल बिस्सा ने बताया कि डॉ. कल्ला और उच्च शिक्षा मंत्री ने सभी रम्मतों के उस्तादों का अभिनन्दन किया।

खबरें और भी हैं...