BSF की बेस्ट बटालियन बनने के लिए अग्नि परीक्षा शुरू:देश में बीएसएफ की बेस्ट बटालियन को मिलेगी जनरल जेएन चौधरी ट्रॉफी, ईस्टर्न और वेस्टर्न कमांड की होगी अग्नि परीक्षा

बीकानेरएक महीने पहलेलेखक: नवीन शर्मा
  • कॉपी लिंक
देश में बीएसएफ की दोनों कमांड में से एक 
बेस्ट बटालियन को मिलेगी ट्रॉफी। - Dainik Bhaskar
देश में बीएसएफ की दोनों कमांड में से एक बेस्ट बटालियन को मिलेगी ट्रॉफी।

देश में बीएसएफ की बेस्ट बटालियन बनने के लिए फ्रंटियर्स की अग्नि परीक्षा शुरू हो गई है। गौरव की बात ये है कि बीकानेर सेक्टर की 127 बटालियन भी इस परीक्षा में भाग ले रही हैं। बीएसएफ की पूरे देश से एक ऐसी बटालियन का चुनाव हर साल किया जाता है, जिसका वर्किंग सबसे बेस्ट रही हो। उस बटालियन को जनरल जेएन चौधरी ट्रॉफी (जीएसटी) प्रदान की जाती है।

बीएसएफ सेवाकाल में किसी बटालियन के लिए यह सबसे बड़ा सम्मान होता है। इसे हासिल करने के लिए हर फ्रंटियर अपने सेक्टर्स में से एक उत्कृष्ट बटालियन का चयन करता है। राजस्थान फ्रंटियर के बीकानेर सेक्टर में चार में से सतराना स्थित 127 बटालियन को परीक्षा में शामिल किया गया है।

बीएसएफ मुख्यालय की ओर से गठित बोर्ड बटालियन की परीक्षा लेने शिलांग से 26 को बीकानेर सतराना पहुंचेगा। बता दें जनरल जेएन चौधरी 1962 से 1966 तक सेनाध्यक्ष रहे थे। बीएसएफ के गठन में उनकी भूमिका महत्वपूर्ण थी। उन्हीं की याद में यह सम्मान बटालियन को दिया जाता है।

ट्रॉफी जीतने के लिए इन पैरामीटर पर खरा उतरना होगा

  • बटालियन की जमीनी और कागजी कार्यप्रणाली।
  • जवानों की वर्किंग शैली, छुटि्टयों की स्थिति।
  • फायरिंग का स्तर।
  • जवानों का प्रशिक्षण लेवल।
  • बटालियन का अचीवमेंट।

देश में बीएसएफ की ईस्ट और वेस्ट दो कमांड हैं। ईस्टर्न कमांड में बांग्लादेश है जबकि वेस्टर्न कमांड में पंजाब, राजस्थान, गुजरात और जम्मू कश्मीर आता है। दोनों कमांड की प्रत्येक फ्रंटियर के सेक्टर से एक बटालियन जीसीटी ट्रॉफी में हिस्सा ले रही हैं। फ्रंटियर स्तर पर परीक्षा में खरा उतरने के बाद दोनों ही कमांड से एक-एक बेस्ट बटालियन का चयन किया जाएगा। उसके बाद उन दोनों से एक बेस्ट बटालियन चुनी जाएगी, जिसे जीएसटी ट्रॉफी मिलेगी।

यह दो अचीवमेंट जो बटालियन को नंबर दिलाने में होंगे मददगार

सतराना स्थित बीएसएफ की 127 बटालियन के क्षेत्र में दो बड़े अचीवमेंट हैं, जो परीक्षा में उसके नंबर बढ़ाने में सहायक बनेंगे। पहला बटालियन की एक बेस्ट सीमा चौकी का केंद्रीय गृह मंत्री के समक्ष पावर प्रजेंटेशन हो चुका है। दूसरा बॉर्डर पर 285 करोड़ की हेरोइन भी इसी बटालियन के क्षेत्र में पकड़ी गई थी। हेरोइन के सभी तस्कर पकड़े जा चुके हैं।

बीकानेर सेक्टर को ट्रॉफी की उम्मीद इसलिए

बीकानेर सेक्टर डीआईजी पुष्पेंद्र सिंह राठौड़ 2010 में भुज सेक्टर में तैनात थे। उस वक्त उनकी 117 बटालियन ने जनरल चौधरी ट्रॉफी जीती थी। ट्रॉफी जीतने के लिए सभी पैरामीटर्स पर वे पहले खरे उतर चुके हैं। इसलिए बीकानेर सेक्टर की 127 बटालियन को उनके अनुभव का लाभ मिलेगा। यह बटालियन जीत के लिए एक साल से तैयारी कर रही है।

  • यह सही है कि जनरल चौधरी ट्रॉफी के लिए बीकानेर सेक्टर की 127 बटालियन भी हिस्सा ले रही है। उम्मीद है हम परीक्षा में खरे उतरेंगे। - पुष्पेंद्र सिंह राठौड़, डीआईजी, बीएसएफ
खबरें और भी हैं...