ज्ञापन / केंद्रीय श्रम मंत्री का पुतला दहन किया

X

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 07:14 AM IST

बीकानेर. केंद्र सरकार की श्रमिक विरोधी नीति के खिलाफ भारतीय ट्रांसपोर्ट वर्कर्स फेडरेशन इंटक की ओर विरोध प्रदर्शन किया गया। इस दौरान इंटक के हेमंत किराड़ू के नेतृत्व में ऑटो श्रमिकों ने  विरोध प्रर्दशन करते हुए केन्द्रीय श्रम मंत्री का पुतला दहन किया। वहीं इस मौके पर राष्ट्रपति को ज्ञापन भेजकर श्रमिकों से 12 घंटे काम लेने व यूनियनों पर पाबंदी वाले काले कानून को वापस लेने की मांग की गई। किराड़ू ने बताया की मांग नहीं मानने तक यह विरोध जारी रहेगा।

वहीं अखिल भारतीय ट्रेड यूनियन कांग्रेस एटक के जिलाध्यक्ष प्रसन्न कुमार ने जिला कलेक्टर के मार्फत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ की हड्डी देश के मजदूर, कोविड-19 के संक्रमण एवं उसके बाद लगाए गए लॉकडाउन में बंद हुए काम-धंधों की वजह से भारी संकट एवं परेशानी का सामना कर रहे हैं। उन्होंने पत्र में लिखा कि देशभर के तमाम केन्द्रीय श्रमिक संगठन, सरकार की ओर से श्रमिकों की अनदेखी से उपजे श्रमिकों के बदतर हालत से आहत होकर पूरे देश में शुक्रवार को रोष व्यक्त किया एवं श्रमिकों के हित में ठोस, वास्तविक प्रभावी निर्णय लिए जाए ताकि राष्ट्र की धरोहर श्रमिक स्वाभाविक उत्पीड़न से मुक्त होकर राष्ट्र की धारा में अपने अस्तित्व को बरकरार रख सके।

राष्ट्रीय मजदूर संघ इंटक के प्रदेश सचिव रमेश व्यास ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर श्रमिकों की बदतर हालत पर प्रकाश डाला है। व्यास ने कहा कि सरकार की गाइडलाइन्स लोक डाउन के दौरान किसी का भी वेतन न काटा जाए का अधिकांस संसधान पालन नहीं कर रहे है। कामधंधा न होने के चलते मजदूर भूखे मरने को मजबूर हो गए। साथ ही श्रमिक कानूनोें में बदलाव मजदूर विरोधी है। यह पत्र इंटक के जिला अध्य़क्ष अशोक पुरोहित व यूथ इंटक के जिला अधअय़क्ष महेंद्र देवड़ा के साथ रमेश व्यास ने क्लेक्टर को भेंट किया ।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना