रीट में चीट की चप्पल:बहन-भांजे को पास कराने डिवाइस लगी चप्पल लेने आया था...अब तीनों जेल पहुंचे

बीकानेर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • नकल गिरोह के दो सदस्यों की रिमांड अवधि 4 दिन बढ़ाई

राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा (रीट) में मेहनत करने के बजाय नकल करके में पास होने की लालसा भाई, बहन और भांजे को सींखचों के पीछे ले गई। चूरू में रतनगढ़ के मेगतिया बिदावतान निवासी गोपाल कृष्ण की बहन किरन और भानजे ओमप्रकाश का परीक्षा सेंटर बीकानेर आया था। दोनों को परीक्षा में नकल कराने के लिए तुलसाराम और मदनलाल ने गोपाल से डील की थी। वे शनिवार को बीकानेर पहुंचे थे।

रविवार को सुबह गंगाशहर बस स्टैंड के पास मदनलाल और त्रिलोक चंद्र से 30 हजार रुपए में डिवाइस लगी एक जोड़ी चप्पल खरीद ली और छह लाख रुपए का ब्लेंक चैक मदन को सौंप दिया। उसके बाद तीनों रवाना हो गए। कुछ ही दूर गए थे कि पुलिस ने पकड़ लिया। उनके पास से चप्पल भी बरामद हो गई। इनसे कुछ ही मिनट पहले मदनलाल और त्रिलोकचंद्र को पुलिस पकड़ चुकी थी। उनके पास से तीन मोबाइल मिले थे। किरन को रविवार को ही जेसी करवा दिया गया। बाकी चारों को दो दिन की रिमांड अवधि खत्म होने पर मंगलवार को वापस कोर्ट में पेश किया गया।

गोपाल कृष्ण और ओमप्रकाश चूंकि डिवाइस लेने आए थे। उनसे पूछताछ भी हो चुकी थी। इसलिए कोर्ट ने दोनों को जेल भेज दिया। गिरोह के सदस्य मदनलाल और त्रिलोकचंद्र का चार दिन का रिमांड मंजूर किया है। गंगाशहर एसएचओ रानीदान ने बताया कि आरोपियों से पूछताछ जारी है। गौरतलब है कि रीट परीक्षा को लेकर राज्य सरकार ने सतर्कता बरतने के निर्देश दिए थे। उसके बाद से ही पुलिस अलर्ट हो गई थी। चाणक्य कोचिंग नकल के मामले में कुख्यात होने के कारण डीएसटी विंग को उसके पीछे लगा दिया गया। पुलिस को नकल का इनपुट मिल चुका था। इसलिए डमी केंडिटेड की जरूरत ही नहीं पड़ी।

सरगना तीसरे दिन भी पुलिस के हाथ नहीं लगा : रीट परीक्षा में नकल कराने के गिरोह का सरगना चाणक्य कोचिंग इंस्टीट्यूट का संचालक तुलसाराम तीसरे दिन भी पुलिस के हाथ नहीं लगा है। उसकी तलाश में चूरू स्थित उसके पैतृक गांव और अजमेर में आरपीएस पत्नी के ठिकानों पर नजर रखी जा रही है। तुलसाराम खुद भी पुलिस में रह चुका है। इसलिए पुलिस के हथकंडों से पूरी तरह वाकिफ होने के कारण उसने अपना मोबाइल बंद कर रखा है। इसलिए पुलिस उसकी लोकेशन ट्रेस नहीं कर पा रही।

नीमकाथाना व किशनगढ़ पुलिस तफ्तीश करने पहुंची
रीट में नकल के मामले को लेकर जांच तेज हो गई है। सीकर से नीम का थाना और अजमेर से किशनगढ़ पुलिस मंगलवार को बीकानेर पहुंची। किशनगढ़ के एक सेंटर पर परीक्षा में नकल करते हुए चूरू में साडू छोटी निवासी गणेश ढाका(29) पकड़ा गया था। पूछताछ में उसने तुलसाराम जाट से डिवाइस लेने की बात कबूली थी। इसी प्रकार नीम का थाना से भी एएसआई महेंद्र बीकानेर आए हैं। वहां पांचू का उदाराम नकल करते पकड़ा गया था। पुलिस कर्मियों ने गंगाशहर थाने में नकल गिरोह के सदस्य मदनलाल और त्रिलोकचंद्र से पूछताछ की। इसी प्रकार प्रतापगढ़ पुलिस भी जल्दी ही बीकानेर आएगी। वहां दो परीक्षार्थी नकल करते पकड़े गए थे।

खबरें और भी हैं...