पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bikaner
  • Candidates Of Nokha Vikas Manch Went To Jaipur, The Remaining Parties Camped In Bikaner; The Location Will Be Changed Again For The Chairman Election

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

इनसाइड स्टोरी:जयपुर गए नोखा विकास मंच के प्रत्याशी, बाकी पार्टियों का डेरा बीकानेर में ही; चेयरमैन चुनाव को लेकर फिर बदला जाएगा ठिकाना

बीकानेर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बाड़ेबंदी के लिए रवाना करने से पहले श्रीडूंगरगढ़ के पूर्व विधायक मंगलाराम गोदारा के साथ कांग्रेस प्रत्याशी। - Dainik Bhaskar
बाड़ेबंदी के लिए रवाना करने से पहले श्रीडूंगरगढ़ के पूर्व विधायक मंगलाराम गोदारा के साथ कांग्रेस प्रत्याशी।

सुबह से मतदान केंद्रों पर एक-एक वोट के लिए जद्दोजहद में जुटे प्रत्याशी शाम को 5 बजे के बाद धीरे-धीरे लापता होने लगे। मतदान के बाद पार्टियों की बाड़ेबंदी के लिए प्रत्याशी बताए ठिकाने पर पहुंचते रहे। 31 जनवरी को मतगणना से पहले तक सभी पार्टियां अपने लोगों को बाड़ेबंदी में ही रखेंगी। प्रत्याशियों के दूसरे खेमे में जाने की आशंका में सभी के फोन बंद करा दिए गए।

हालांकि इससे पहले परिवार वालों को यह सूचना जरूर भिजवा दी गई कि वे दो दिन बाड़ेबंदी में रहेंगे, लेकिन कहां यह फिलहाल बताने से मना कर दिया गया। भाजपा ने बाड़ेबंदी को प्रशिक्षण शिविर नाम दिया तो कांग्रेस ने मीटिंग। जगह और समय सभी ने पहले तय कर लिया था लेकिन उम्मीदवारों को इसकी भनक नहीं लगने दी।

किसी को बाड़ेबंदी की जगह पता ना लगे इसलिए रात 12 बजे तक उम्मीदवारों को एक जगह रखा गया। आधी रात के बाद गाड़ियों के काफिलों में उम्मीदवारों को सुरक्षित और गोपनीय स्थान पर ले जाया गया, ताकि उनके खेमे में कोई दूसरा सेंधमारी ना कर सके।

पार्टियों ने मीटिंग में तय की बाड़ाबंदी की जगह, प्रत्याशियों के फोन ऑफ कराए

नोखा : रात 11 बजे विकास मंच का काफिला रवाना

मतदान खत्म होते ही विकास मंच के उम्मीदवार पूर्व संसदीय सचिव कन्हैयालाल झंवर के आवास पर पहुंचे। वहां उम्मीदवारों की मीटिंग हुई। देर रात सभी वहीं रहे लेकिन रात 11 बजे गाड़ियों का काफिला उम्मीदवारों को लेकर जयपुर रवाना हो गया। सारे उम्मीदवारों के फोन स्विच ऑफ करा दिए गए।
नोखा-श्रीडूंगरगढ़ के भाजपाई मुकाम में

नोखा विधायक बिहारीलाल बिश्नोई ने सात बजे तक सभी 44 अधिकृत और एक निर्दलीय उम्मीदवार को कार्यालय बुलाया। यहां बैठक के नाम पर मतदान की समीक्षा हुई। मुकाम, सालासर जैसे सुरक्षित स्थान पर जाने की चर्चा हुई और अंत में मुकाम की एक धर्मशाला में सभी उम्मीदवारों को रखा गया। देर रात श्रीडूंगरगढ़ भाजपा के उम्मीदवारों को भी इसी बाड़ेबंदी में भेजा गया। बिहारीलाल बिश्नोई, ताराचंद सारस्वत और रामगोपाल सुथार को प्रबंधन की जिम्मेदारी दी गई।

श्रीडूंगरगढ़ : कांग्रेस प्रत्याशी बीकानेर के नजदीक फार्म हाउस पहुंचे

धर्मकांटे के पास एक स्थान पर पूर्व विधायक मंगलाराम गोदारा पहले से मौजूद थे। पांच बजते ही एक-एक उम्मीदवार और कार्यकर्ता पहुंचने लगे। आठ बजे तक बंद कमरे में मीटिंग हुई। रात 10 बजे श्रीडूंगरगढ़ से 32 उम्मीदवारों को लेकर गाड़ियों का काफिला बीकानेर के समीप एक फार्म हाउस पर पहुंचा। अब 31 तक सभी उम्मीदवार यहीं रहेंगे।

देशनोक: बीकानेर रोडवेज बस स्टैंड के पास होटल में कांग्रेस के प्रत्याशी

कांग्रेस ने शाम छह बजे तक अपने 25 उम्मीदवारों को थाने के पीछे एक भवन में इकट्ठा किया। बाद में सभी को यहां से बीकानेर में रोडवेज बस स्टैंड के पास एक होटल ले जाया गया। उच्च शिक्षा मंत्री भाटी की देखरेख में 31 जनवरी तक उम्मीदवार यहीं रहेंगे। तीन प्रमुख लोगों को बाड़ेबंदी में साधन-सुविधाओं की जिम्मेदारी दी गई। भाजपा : देशनोक के प्रत्याशियों की बाड़ेबंदी की जिम्मेदारी केंद्रीय मंत्री अर्जुनराम मेघवाल को दी गई है।

31 जनवरी के बाद फिर बदलेगी जगह
बाड़ाबंदी में गए सभी पार्टियों के उम्मीदवार अब 31 जनवरी को बाहर निकलेंगे। जो चुनाव जीतेंगे, उनको फिर से बाड़ाबंदी में ले जाया जाएगा, लेकिन हारने वाले को घर के लिए रवाना कर दिया जाएगा। जीतने वालों को चेयरमैन और डिप्टी चेयरमैन चुनाव के बाद ही बाड़ेबंदी से मुक्त किया जाएगा। सिर्फ जीत का सर्टीफिकेट लेने के लिए कड़ी सुरक्षा में केन्द्र तक लाएंगे।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आर्थिक स्थिति में सुधार लाने के लिए आप अपने प्रयासों में कुछ परिवर्तन लाएंगे और इसमें आपको कामयाबी भी मिलेगी। कुछ समय घर में बागवानी करने तथा बच्चों के साथ व्यतीत करने से मानसिक सुकून मिलेगा...

    और पढ़ें