• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bikaner
  • District Chief Is Not Calling Meeting, Posts Are Also Lying Vacant; Not Even A Single Village Declared ODF Has Become ODF Plus

संपूर्ण स्वच्छता पर संकट:जिला प्रमुख नहीं बुला रहे बैठक, पद भी पड़े हैं रिक्त; ओडीएफ घाेषित एक भी गांव अब तक ओडीएफ प्लस नहीं बना

बीकानेर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रशासनिक एवं जनप्रतिनिधियों की बेरुखी के कारण यह टारगेट पूरा होता नजर नहीं आ रहा। - Dainik Bhaskar
प्रशासनिक एवं जनप्रतिनिधियों की बेरुखी के कारण यह टारगेट पूरा होता नजर नहीं आ रहा।

राज्य का वर्ष 2016 में पहले ओडीएफ घोषित जिले के हालात इन दिनों ओडीएफ प्लस अभियान में बदतर हाेते जा रहे हैं। कारण है ओडीएफ प्लस योजना में संपूर्ण स्वच्छता के टारगेट पूरे ही नहीं हो रहे। बीकानेर जिले में 344 ग्राम पंचायतों को ओडीएफ प्लस बनाना है। यानी इन ग्राम पंचायतों के सभी गांवों में ठोस एवं तरल कचरे का प्रबंधन किया जाएगा, गलियों में घरों का पानी नहीं बहेगा, गोबर जैसे प्राकृतिक उत्पादों से जैविक खाद बनाई जाएगी।

मगर, यहां के प्रशासनिक एवं जनप्रतिनिधियों की बेरुखी के कारण यह टारगेट पूरा होता नजर नहीं आ रहा। कारण है जिस समिति पर इसकी जिम्मेदारी है उसकी कभी बैठक ही नहीं हुई। वहीं इस योजना को संचालित करने के लिए पूर्णकालिक जिला समन्वयक व ब्लॉक समन्वयक के पद भी नहीं भरे गए।

ये पद संविदा पर भरे जाने होते हैं मगर अब तक केवल बीकानेर व कोलायत पंचायत समिति में ही ब्लॉक समन्वयक नियुक्ति है अन्य किसी भी पंचायत में ये पद नहीं भरे गए हैं। बीकानेर में जिला समन्वयक का अतिरिक्त प्रभार एक एईएन को दे रखा है जिससे योजना को संचालित करने में परेशानियां आ रही है।

जिला जल स्वच्छता मिशन की बैठक ही नहीं हुई
जिला जल स्वच्छता मिशन के लिए बनी समिति के अध्यक्ष जिला प्रमुख होते हैं। सीईओ सदस्य सचिव। इसके साथ ही सभी विभागों के उच्चाधिकारी इसके सदस्य होते हैं। इस समिति की साल में तीन बैठक होनी चाहिए। इसी बैठक में तय होता है कि कैसे योजना को संचालित किया जाएगा। कैसे लक्ष्य अर्जित किए जाएंगे। नई योजनाएं बनाई जाती है। मगर अब तक यह बैठक नहीं बुलाई गई है।

जिले में गांवों को ओडीएफ प्लस बनाने के लिए करने होंगे यह महत्त्वपूर्ण चार काम

  • सिंगल यूज प्लास्टिक को एकत्र करना व उसको अलग करना।
  • सामुदायिक भवनों में साफ-सफाई एवं पुताई का काम श्रमदान के जरिए करना व कराना।
  • श्रमदान कर गांव की खाली जमीनों पर पौधरोपण करना और कराना।
  • ओडीएफ प्लस गांवों की अवधारणा ग्रामीणों के मन मस्तिष्क में डालना।

जिला जल स्वच्छता मिशन समिति की बैठक कोरोना जैसी महामारी व अन्य कारणों से नहीं बुलाई गई थी। अब बैठक बुलाने के प्रयास किए जाएंगे ताकि ओडीएफ प्लस के टारगेट को बीकानेर जिले में प्राप्त किया जा सके।- मोडाराम मेघवाल, जिला प्रमुख - बीकानेर

खबरें और भी हैं...