पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कोरोनाकाल:डर 200 का नहीं, बस माैतें रुक जाएं; प्रदेश में कुल सैंपल के 2.17%, बीकानेर में 0.77% ही पाॅजिटिव

बीकानेरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
Advertisement
Advertisement

बीकानेर में पाॅजिटिव राेगियाें का आंकड़ा 200 तक पहुंच गया। यह चिंता की बात है ताे लेकिन डरने की वजह नहीं। वह इसलिए क्याेंकि बीकानेर 26 हजार सैंपल पूरे कर अब भी प्रदेश का सबसे ज्यादा सैंपल लेने वाला 7वां जिला है। इतना ही नहीं सैंपल की तुलना में पाॅजिटिव राेगियाें की तुलना करें ताे देश और प्रदेश के औसत से कहीं बेहतर स्थिति बीकानेर की है।

मसलन, देश में कुल सैंपल के 6.16 फीसदी, प्रदेश में 2.17 फीसदी व्यक्ति पाॅजिटिव रिपाेर्ट हाे रहे हैं जबकि बीकानेर में कुल सैंपल में से 0.77 फीसदी यानी एक फीसदी से भी कम राेगी रिपाेर्ट हुए हैं। यह आंकड़ा अब भी कम्युनिटी में बीमारी का फैलाव नहीं हाेने का संकेत देता है। बात सिर्फ सैंपल ज्यादा और पाॅजिटिव कम तक ही नहीं है वरन हमारी रिकवरी रेट भी, देशभर के रिकवरी रेट की तुलना में ठीक है।

देश में रिकवरी रेट 56.38 फीसदी है जबकि बीकानेर में 59 फीसदी। हालांकि प्रदेश में रिकवरी रेट 78 फीसदी के करीब है। बीकानेर में अचानक राेगी बढ़ने से एक्टिव केसेज ज्यादा हाे गए हैं। इसी वजह से रिकवरी रेट फिलहाल प्रदेश की तुलना में कम नजर आ रही है। इन सबके बीच काेई डरावना आंकड़ा है ताे वह माैताें का। अब तक 13 लाेगाें की माैत बीकानेर में हाे चुकी है। दाे साै राेगियाें में से हुई ये माैतें 6.5 फीसदी है जाे प्रदेश के 2.3 फीसदी से लगभग तीन गुना और देश के 3.18 फीसदी से दाे गुना है।

बीकानेर में 26000 सैंपल , सैंपल में आगे, पाॅजिटिव कम, रिकवरी ठीक पर माैतें ज्यादा

दाे उदाहरणाें से समझ सकते हैं बीकानेर अब भी अच्छी स्थिति में कैसे
1. टाेंक भी अब तक 200 काेराेना पाॅजिटिव रिपाेर्ट हुए हैं। देखने में यह आंकडा बीकानेर के बराबर है लेकिन ये राेगी वहां लिए गए 11582 सैंपल में से रिपाेर्ट हुए हैं। मतलब यह कि पाॅजिटीविटी 1.72 फीसदी है जबकि इतने ही पाॅजिटव बीकानेर में 26 हजार सैंपल में से हैं। यहां पाॅजिटीविटी 0.77 फीसदी है। मतलब यह कि बराबर राेगी हाेते हुए भी सैंपल के लिहाज से टाेंक से एक तिहाई
2.भरतपुर में 21885 सैंपल में से 1372 पाॅजिटिव। मतलब यहां पाॅजिटीविटी 6.26 प्रतिशत है। सैंपल कम हाेने के बावजूद पाॅजिटिव राेगियाें की संख्या बीकानेर से छह गुना से भी ज्यादा।

  • काे-माेरबिलिटी यानी दूसरी बीमारियाें से पीड़िताें की हाे रही माैत  13 में से चार मृतकाें की पाॅजिटिव रिपाेर्ट ही माैत के बाद अाई। वे अन्य गंभीर बीमारियाें का इलाज करवाने हाॅस्पिटल पहुंचे थे, कोरोना की चपेट में आ गए। 

यूं समझें काेराेना के हालात 

    देश    प्रदेश    बीकानेर
सैंपल    7137716    709592    26000
पाॅजिटिव    440215 (6.16%)    15431 (2.17%)    200 (0.77%)
रिकवर    248190 (56.38%)    12040 (78.48%)    118 (59%)
माैत    14011 (3.18%)    356 (2.30%)    13 (6.5%)
एक्सपर्ट व्यू:गंभीर बीमारी की दवाई न छाेड़ें, बुजुर्ग और बच्चे बाहर न निकलें

टीबी, कैंसर, हार्ट, किडनी, हाइपरटेंशन, लकवा, थायराॅइड जैसी बीमारियाें से जूझ रहे पेशेंट दवाई न छाेड़ें। हाॅस्पिटल जाना संभव न हाे ताे डाक्टर से फाेन पर संपर्क में रहें। ये राेगी जहां तक हाे सके घर में ही रहें। परिवार के जाे सदस्य बाहर आते-जाते हैं वे सुरक्षा के पूरे बंदाेबस्त किए बगैर इनके पास न जाएं।  गर्भवतियाें-प्रसूताओं के प्रति अत्यधिक सतर्क रहें। 

उनकी समय पर जांच हाे। दवाई न छूटें। हाॅस्पिटल जाना जरूरी है, इसलिए जाते-आते अत्यधिक सतर्कता, सुरक्षा के बंदाेबस्त करें। बुजुर्गाें-बच्चाें का बाहर न निकालें। बाहर से परिवार के जाे सदस्य आ रहे हैं वे भी बच्चे काे सीधे गाेद लेने, छूने, गले लगाने से बचें। इसकी बजाय सुरक्षा के पूरे बंदाेबस्त करने के बाद ही इनके पास जाएं।

एक्सपर्ट पैनल में शामिल

डा.बी.के.गुप्ता, सीनियर प्राेफेसर मेडिसिन, एसपी मेडिकल काॅलेज, डा.संजय काेचर, सीनियर प्राेफेसर एवं काेविड नाेडल प्रभारी, डा.गुंजन साेनी, सीनियर प्राेफेसर टीबी-चेस्ट डिपार्टमेंट, डा.तनवीर मालावत, सीनियर सर्जन, डीटीएम हाॅस्पिटल, डा.सुरेन्द्र बेनीवाल, कैंसर राेग विशेषज्ञ

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- अगर कोई विवादित भूमि संबंधी परेशानी चल रही है, तो आज किसी की मध्यस्थता द्वारा हल मिलने की पूरी संभावना है। अपने व्यवहार को सकारात्मक व सहयोगात्मक बनाकर रखें। परिवार व समाज में आपकी मान प्रतिष...

और पढ़ें

Advertisement