• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bikaner
  • Due To Corona, Students Will Have To Complete The Course Online, The Education Department Has Fixed The Time Limit Of The Syllabus.

ऑनलाइन पूरा होगा कोर्स:कोरोना के कारण स्टूडेंट्स को ऑनलाइन ही पूरा करना होगा कोर्स, शिक्षा विभाग ने सिलेबस की टाइम लिमिट तय कर दी

बीकानेर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना के कारण स्कूल्स में तीस जनवरी तक छुटि्टयां है लेकिन शिक्षा विभाग ने मार्च 22 तक का स्टडी प्लान बना दिया है। राज्य के सभी सरकारी व प्राइवेट स्कूल्स को इसी प्लान के तहत बच्चों को पढ़ाना होगा। राज्यभर में अब कक्षा एक से सात, नौ व ग्यारह में पंद्रह मार्च तक कोर्स पूरा कराना होगा और कक्षा आठ, दस व बारह में बीस फरवरी तक कोर्स पूरा कराना होगा।

माध्यमिक शिक्षा निदेशालय की ओर से जारी इस प्लान के तहत सिलेबस येनकेन पूरा करने की व्यवस्था की गई है ताकि कोरोना के बाद स्कूल खुलते ही एग्जाम हो सकें। शिक्षा विभाग ने प्रदेश के सभी टीचर्स को निर्देश दिए हैं कि वो क्लास एक से सात, नौ व ग्यारह का कोर्स पंद्रह मार्च तक हर हाल में पूरा करवाएंगे। वहीं कक्षा आठ, दस व बारह का कोर्स बीस फरवरी तक हर हाल में पूरा होगा। दरअसल, बोर्ड एग्जाम मार्च के पहले सप्ताह में शुरू होने वाले हैं। ऐसे में इससे पहले ऑनलाइन पढ़ाई से ही कोर्स पूरा करवाया जाएगा।

स्कूल बंद होने से स्टूडेंट्स को हो रहे लर्निंग लॉस को ध्यान में रखते हुए "आओ घर में सीखें- 2.0" तथा "बैक टू स्कूल" कार्यक्रम शुरू करने के आदेश दिए गए हैं। "जनवरी 2022 से मार्च 2022" के लिए "STAR" (Set To Augment Result) कार्यक्रम शुरू किया गया है। इसके तहत कक्षा 1-8 के लिये सिलेबस पूर्ण करने की योजना और इसकी समय सीमा तय की गई है। इसके साथ ही नवीन वेब एप के माध्यम से वीकली क्विज, सिलेबस रिविजन कराने का प्रयास होगा। इसके लिए e- कक्षा के माध्यम से पढ़ाई होगी। इसके साथ ही पांचवीं व आठवीं बोर्ड एग्जाम के लिए टेस्ट भी होंगे। कक्षा 3 से 8 में अंग्रेजी, हिंदी व गणित विषयों की एक क्लस्टर वर्कबुक पढ़ाई जाएगी, जिससे तीन माह की पढ़ाई इस तरह होगी कि पिछली कक्षा के कुछ सिलेबस का रिविजन भी हो जाएगा।

अब बीस जनवरी से स्कूल्स में नई व्यवस्था के तहत ही पढ़ाई होगी। प्रथम दो पीरियड रेमिडी एज्यूकेशन के होंगे। जिसमें पुराने सिलेबस का कुछ हिस्सा पढ़ाया जाएगा। विद्यार्थियों के सीखने के स्तर के आधार पर स्टूडेंट्स के ग्रुप्स बनेंगे। स्टूडेंट्स को जितनी पढ़ाई आ रही है, उसी आधार पर उसका ग्रुप बनेगा। इन ग्रुप्स में बच्चों को उसकी परफोरमेंस के आधार पर शामिल किया जाएगा। प्रत्येक ग्रुप के लिए अलग अलग पाठ्यक्रम तय किया गया है।

सुबह आठ बजे से ऑनलाइन पढ़ाई

शिक्षा विभाग ने सभी टीचर्स को निर्देश दिए हैं कि सुबह आठ बजे ही सभी स्टूडेंट्स को उनके व्हाट्सएप ग्रुप में होमवर्क सहित अन्य अभ्यास सामग्री भेजी जाएगी। जिन स्टूडेंट्स के पास व्हाट्सएप नहीं है, उनके घर तक टीचर्स शिक्षण सामग्री पहुंचाकर आएंगे। स्टूडेंट्स को भेजी गई लर्निंग सामग्री के आधार पर हर शनिवार को एक क्विज आयोजित की जाएगी। होम वर्क और क्विज में शत प्रतिशत स्टूडेंट्स की उपस्थिति होनी चाहिए।

खबरें और भी हैं...