6 दिनों में गहलोत ने 6वीं बार चेताया:CM ने कहा- अगर दूसरी लहर पर काबू नहीं पाया तो लॉकडाउन लगाना पड़ेगा; 24 से 45 साल के लोगों का जल्द वैक्सीनेशन का सुझाव दिया

जयपुर2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच लोगों की लापरवाही कम नहीं हो रही है। हेल्थ प्रोटोकॉल का पालन करने में लगातार बरती जा रही लापरवाही पर सीएम अशोक गहलोत ने 6 दिनों में छठवीं बार सख्त चेतावनी दी। सोमवार को प्रदेश में 602 कोरोना पॅजिटिव सामने आने के बाद गहलोत ने मंगलवार सुबह फिर लोगों से हेल्थ प्रोटोकॉल की पालना करने और ऐसा नहीं करने पर सख्त चेतावनी दी। इसके अलावा, बेंगलुरु के डॉक्टर देवी शेट्टी की सलाह से भी गहलोत सहमत नजर आए।

गहलोत ने कहा- बेंगलुरु के डॉक्टर देवी शेट्टी की यह राय उचित लगती है कि 24 से 45 साल के लोगों का भी जल्द टीकाकरण करना चाहिए, क्योंकि ये लोग अपने काम से घरों से बाहर रहते हैं और सुपर स्प्रेडर बन सकते हैं। भारत के पास बड़ी संख्या में वैक्सीन उत्पादन की क्षमता भी उपलब्ध है जिसका इस्तेमाल होना चाहिए।

गहलोत ने लिखा- कोरोना से जीती जंग कहीं हम हार न जाएं
गहलोत ने सोशल मीडिया पर लिखा- 11 मार्च को प्रदेश में कोरोना संक्रमण के 203 मामले आए थे। 22 मार्च को यह संख्या 602 पहुंच गई। 11 दिन में ही कोरोना के नए मामलों की संख्या करीब 3 गुना बढ़ गई है। अगर अभी भी लापरवाही बरती तो स्थिति बिगड़ सकती है। यदि पहले की तरह सतर्कता नहीं बरती तो सरकार को सख्त फैसले लेने ही पड़ेंगे। प्रदेश सरकार कठोर फैसलों की बजाय आमजन के सहयोग से कोरोना को निंयत्रित करना चाहती है।

गहलोत ने केंद्र से मांगी पर्याप्त वैक्सीन
गहलोत ने केंद्र सरकार से पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन भेजने की की मांग करते हुए वैक्सीनेशन में एज ग्रुप की लिमिट हटाकर सभी को टीका लगाने का सुझाव दिया है। उन्होंने लिखा- देश में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। विशेषज्ञों की राय है कि भारत सरकार को ज्यादा से ज्यादा टीकाकरण पर फोकस करना चाहिए। अधिक से अधिक वैक्सीनेशन से ही जनता कोरोना से सुरक्षित हो सकेगी। वैक्सीनेशन में एज ग्रुप की लिमिट हटाकर सभी को टीका लगाना चाहिए।

एक और लॉकडाउन आजीविका के लिए घातक
गहलोत ने लिखा- मैं केंद्र से अपील करता हूं कि राज्यों को अधिक से अधिक संख्या में वैक्सीन उपलब्ध करवाएं। जिससे कोरोना संक्रमण की इस दूसरी लहर पर काबू पाया जा सके। कोरोना के मामले बढ़ने पर एक और लॉकडाउन आजीविका के लिए घातक साबित होगा। अगर समय रहते कोराेना की दूसरी लहर पर काबू नहीं पाया गया तो लॉकडाउन लगाना पड़ेगा। जो आम आदमी की आजीविका के लिए बहुत ज्यादा घातक हो सकता है।

खबरें और भी हैं...