• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bikaner
  • Government Has Made New Rules, Now It Will Not Be Easy To Raise The Payment Of GPF, Will Have To Explain The Reason, Employees After January 2004 Can Also Join

GPF के दायरे में आए नए कर्मचारी:सरकार ने बना दिए नए नियम, अब आसान नहीं होगा GPF का भुगतान उठाना, बताना पड़ेगा कारण, जनवरी 2004 के बाद के कर्मचारी भी जुड़ सकते हैं

बीकानेर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जीपीएफ नियमों में फेरबदल किया। - Dainik Bhaskar
जीपीएफ नियमों में फेरबदल किया।

सरकारी कर्मचारियों को मिलने वाली प्रावधायी निधि (GPF) के नियमों में बड़ा फेरबदल करते हुए सरकार ने वर्ष 2004 के बाद नियुक्त कर्मचारियों को भी इसके दायरे में ले लिया है। इसी के साथ ऑटोनोमस बॉडी से जुड़े सरकारी कार्यालयों के कर्मचारियों को भी इस योजना का लाभ देने का निर्णय किया है। इतना ही नहीं नए नियमों के बाद अब कर्मचारी को अपनी जमा राशि निकालने के लिए उचित कारण बताना होगा।

दरअसल, सरकार ने पिछले दिनों एक अधिसूचना जारी करके सामान्य प्रावधायी निधि नियमों में बड़े फेरबदल कर दिए हैं। अब एक जनवरी 2004 के पश्चात राजय सरकार में नियुक्त कर्मचारी भी GPF कटवा सकते हैं। ये कर्मचारी की इच्छा पर निर्भर करेगा, लेकिन अगर उसने एक बार कटवाया है तो फिर उसे निश्चित रूप से कटवाना होगा। इसी तरह ऑटोनॉमस बॉडी से जुड़े कर्मचारियों के लिए GPF जमा करवाने का विकल्प खुला रहेगा। अगर कर्मचारी अपना GPF कटवाता है तो उस पर हर महीने 7.1 प्रतिशत ब्याज दिया जायेगा।

रिटायरमेंट से एक महीने पहले तक कटौती

पहले सरकारी कर्मचारी का GPF रिटायरमेंट से तीन महीने पहले कटना बंद हो जाता था। जो अब महज एक महीने पहले बंद होगा। ऐसे में कर्मचारी को दो महीने अधिक कटौती करानी होगी और ब्याज भी अधिक मिलेगा।

बिना कारण नहीं मिलेगा अपना धन

पहले कर्मचारी को छूट थी कि वो अपनी जमा राशि कभी भी ले सकता था लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। उसे अपनी राशि लेने के लिए बकायदा उचित कारण बताना होगा। उसका प्रमाण भी देना होगा। अब बच्चों की पढ़ाई के लिए, वाहन खरीदने के लिए, परिवार के सदस्यों के बीमार होने पर अथवा अन्य कारणों से पचास प्रतिशत भुगतान ले सकते हैं। अगर भवन निर्माण करवा रहे हैं, भवन या जमीन खरीद रहे हैं या पुत्र व पुत्रियों की शादी कर रहे हैं तो GPF का 75 प्रतिशत ले सकते हैं।

बिना कारण ऐसे मिलेंगे रुपए

अगर कोई कर्मचारी बिना कारण बताये रुपए लेना चाहता है तो उसे पांच से पंद्रह साल की नौकरी होने पर दस प्रतिशत, पंद्रह से पच्चीस वर्ष पूर्ण होने पर 30 प्रतिशत, 25 वर्ष से अधिक होने पर 40 प्रतिशत, तीस वर्ष से अधिक होने पर 50 प्रतिशत भुगतान मिल सकता है। वहीं रिटायरमेंट में साठ महीने से कम समय शेष होने पर नब्बे प्रतिशत भुगतान ले सकते हैं।

खबरें और भी हैं...