पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bikaner
  • If The Trees Were Not Cut Indiscriminately, Then The Present Would Not Stand In The Queue For Oxygen, It Is A Knock Of Future Horrors.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अब भी संभलिए:अंधाधुंध पेड़ नहीं काटे होते तो ऑक्सीजन के लिए वर्तमान यूं खड़ा न होता कतार में, ये भविष्य की भयावहता की दस्तक है

बीकानेर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
ऑक्सीजन के लिए कतार में खड़े लोग। - Dainik Bhaskar
ऑक्सीजन के लिए कतार में खड़े लोग।

कोरोना के कारण पूरा देश ऑक्सीजन संकट से जूझ रहा है। गंभीर मरीजों की जान बचाने के लिए ऑक्सीजन की विदेशों से आपूर्ति किए जाने के बावजूद पूर्ति नहीं हो रही है। लेकिन, ये बिगड़ते हालात दस्तक हैं। आने वाली पीढ़ी के लिए, हमारे भविष्य के लिए। आज सिलेंडर के लिए लोग कतार लगाए खड़े हैं, समझा जा सकता है कि भविष्य की तस्वीर और कितनी डरावनी हो सकती है। इसके बावजूद पौधरोपण घट रहा है, पेड़ों की कटाई साल दर साल बढ़ रही है।

1979 में कलकत्ता यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर डॉ. तारक मोहनदास ने एक अध्ययन किया था, जिसमें उन्होंने एक पेड़ की कीमत बताई थी। डॉ. दास ने बताया था कि एक पेड़ अपने 50 साल के जीवन में 2 लाख डॉलर (1979 की दर) की सेवाएं देता है। इन सेवाओं में ऑक्सीजन का उत्सर्जन, भूक्षरण रोकने, मिट्‌टी उर्वरक बनाने, पानी रिसाइकल करने और हवा शुद्ध करने जैसी सेवाएं शामिल हैं। अगर 1979 की कीमत की महंगाई दर को ध्यान में रखते हुए गणना की जाए तो आज एक पेड़ की सेवाओं की कीमत करीब 5 करोड़ रुपए होती है।

एक अन्य अध्ययन दिल्ली के एक एनजीओ दिल्ली ग्रीन्स ने किया था। इसके मुताबिक एक स्वस्थ पेड़ साल में जितनी ऑक्सीजन देता है, अगर उसे खरीदने जाएं तो कीमत 30 लाख रुपए से भी ज्यादा होगी। यूं तो एक-एक पेड़ अमूल्य है, लेकिन यह आंकड़े यह तो बताते ही हैं कि पेड़ लगाने का हमारा प्रयास कितना महत्वपूर्ण होता है।

भास्कर EXPLAINER- 1 पेड़ की कीमत समझिए: एक व्यक्ति को सालभर में 740 किलो ऑक्सीजन की जरूरत होती है, जिसमें 100 किलो एक पेड़ देता है

वन रिपोर्ट 2019 के अनुसार राजस्थान में कुल वृक्षावरण 8112 वर्ग किमी है, जो कुल क्षेत्रफल का 2.36% है। वृक्षावरण में वर्ष 2017 की तुलना में 154 वर्ग किमी की कमी हुई है। राजस्थान में कुल वनावरण एवं वृक्षावरण 24742 वर्ग किमी है, जो राज्य के कुल भौगोलिक क्षेत्रफल का 7.22% है।

हवा फिल्टर कर फेफड़ों को बचाता है : एक पेड़ 6 फीसदी तक स्मॉग कम करता है। पूर्ण विकसित पेड़ प्रदूषित हवा से 108 किलोग्राम तक छोटे कण और गैस सोख सकता है। एक पेड़ की मदद से सालाना 3500 लीटर पानी बरस सकता है। हर पेड़ करीब 3700 लीटर पानी रोककर जमीन में पहुंचाता है। इससे ग्राउंडवाटर बढ़ता है। पानी स्टोर करता है, वातावरण में पानी बनाए रखता है। इससे सूखे की आशंका कम होती है। शहरों में 530 लीटर पानी को नालियों में जाने से रोककर बाढ़ से बचाता है।

एक पेड़ 1 साल में 20 किलो धूल सोखता है
एक अन्य अध्ययन बताता है कि एक पेड़ सालभर में 20 किग्रा तक धूल सोखता है। पेड़ किसी इलाके का तापमान 1 से 5 डिग्री तक कम कर सकते हैं। सालभर में एक पेड़ 22 किग्रा तक कार्बन-डायऑक्साइड सोख सकता है। पर्यावरण के क्षेत्र में काम करने वाले संस्थान नेचर कंजर्वेंसी के एक अध्ययन के मुताबिक शहरों में अगर ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाएं तो खराब पर्यावरण से होने वाली मौतों को 9 फीसदी तक कम किया जा सकता है और हर साल 36,000 लोगों की जान बचाई जा सकती है।

बीकानेर में ऑक्सीजन की डिमांड व पूर्ति का गणित
2000 सिलेंडर चाहिए पीबीएम में
1500 सिलेंडर मिल रहे हैं रोज
145 सिलेंडर भरे जा रहे हैं पीबीएम में लगे जनरेशन प्लांट से
1600 सिलेंडर रोज भरते हैं 3 निजी लिक्विड प्लांट (उपलब्धता पर)
500 सिलेंडर पीबीएम सप्लाई करता है एक निजी ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट
50 सिलेंडर होम आइसोलेशन
150 निजी हॉस्पिटल को चाहिएबीकानेर में ऑक्सीजन की डिमांड व पूर्ति का गणित

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आज की स्थिति कुछ अनुकूल रहेगी। संतान से संबंधित कोई शुभ सूचना मिलने से मन प्रसन्न रहेगा। धार्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत करने से मानसिक शांति भी बनी रहेगी। नेगेटिव- धन संबंधी किसी भी प्रक...

    और पढ़ें