पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सियासी दांव-पेच:झंवर का दांव-हम नाेखा में विकास मंच से चुनाव लड़ेंगे, डूडी बोले- उनकी पार्टी का कांग्रेस में हाे गया है विलय

बीकानेर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 28 जनवरी काे हाेंगे नाेखा पालिका के चुनाव, पिछली बार विकास मंच से चेयरमैन बने थे नारायण झंवर

नगर पालिका चुनाव 28 जनवरी काे हाेंगे। चुनाव की तारीख घाेषित हाेते ही सियासी दांव-पेच शुरू हाे गए। बुधवार काे नाेखा नगर पालिका के चेयरमैन नारायण झंवर ने एलान कर दिया है कि वे नाेखा पालिका का चुनाव विकास मंच के बैनर-सिंबल से लड़ेंगे। हमने विधानसभा चुनाव से पहले विकास मंच का कांग्रेस में विलय नहीं किया था। मैं अपने पिता कन्हैयालाल झंवर के साथ कांग्रेस में शामिल हुआ था।

जवाब में विधानसभा के पूर्व नेता प्रतिपक्ष और नाेखा के पूर्व विधायक रामेश्वर डूडी ने कहा कि झंवर जब कांग्रेस में शामिल हुए थे, उस वक्त विकास मंच का भी कांग्रेस में विलय हाे चुका था। अब काेई विकास मंच नहीं है, इसलिए झंवर के साथ हम सभी नाेखा में कांग्रेस के सिंबल पर चुनाव लड़ेंगे और कांग्रेस का ही बाेर्ड बनाएंगे।

चुनाव में अब ज्यादा दिन नहीं बचे हैं, इसलिए बहुत जल्दी ही तस्वीर सामने होगी कि नोखा किस करवट बैठता है। उल्लेखनीय है कि 2018 में हुए विधानसभा चुनाव से पहले नाेखा के पूर्व विधायक कन्हैयालाल झंवर कांग्रेस में शामिल हुए थे और डूडी-झंवर के बीच हुए समझाैते के तहत ही उन्हें बीकानेर पूर्व से कांग्रेस का उम्मीदवार बनाया गया था।

नाेखा के पिछले पालिका चुनाव में बुरी तरह हारी थी कांग्रेस, किसी उम्मीदवार को नहीं मिली थी जीत
पिछले पालिका चुनाव में नाेखा शहर में कांग्रेस बुरी तरह हारी थी। हालत ये थी कि उसका एक पार्षद तक नहीं जीता था। ज्यादातर वार्डाें में जमानत बचाना मुश्किल हाे गया था। यहां विकास मंच का बाेर्ड बना और नारायण झंवर चेयरमैन बने। दूसरे नंबर पर भाजपा रही थी। रामेश्वर डूडी और कन्हैयालाल झंवर काे पता है कि नाेखा शहर में कांग्रेस की हालत ठीक नहीं है। ऐसे में झंवर भी कांग्रेस के बैनर से चुनाव लड़ने का रिस्क नहीं लेना चाहते, क्याेंकि नाेखा का बड़ा वर्ग झंवर काे वाेट देना चाहता है, लेकिन कांग्रेस काे पसंद नहीं करता।

जानकाराें के अनुसार इसी गफलत का ताेड़ निकालने के लिए ये सियासी खेल खेला जा रहा है। जानकार कहते हैं कि बिना डूडी की सलाह के झंवर का ये बयान नहीं आ सकता। संभावना जताई जा रही है कि नाेखा में विकास मंच और कांग्रेस अलग-अलग चुनाव नहीं लड़ेगी। हालांकि कांग्रेस ने दावा किया कि वह अपने उम्मीदवार उतारेगी।

स्थानीय विधायक-उम्मीदवार देंगे टिकट
कांग्रेस ने संकेत दिए हैं कि नगर पालिकाओं के टिकट माैजूदा विधायक या विधानसभा चुनाव लड़ चुके उम्मीदवार ही तय करेंगे। संगठन से तालमेल बैठाया जाएगा। इसी वजह से श्रीडूंगरगढ़ में मंगलाराम गाेदारा और देशनाेक में भंवर सिंह भाटी पर बाेर्ड बनाने की जिम्मेदारी अा गई। देशनाेक में परेशानी भाजपा काे है, क्याेंकि यहां दबदबा रखने वाले देवी सिंह भाटी अब भाजपा में नहीं है। पंचायत चुनाव में भी भाजपा बुरी तरह हारी।

^ हम राष्ट्रीय पार्टी हैं। हमारे यहां बड़े नेता ही फैसला करते हैं। हम नाेखा, देशनाेक और श्रीडूंगरगढ़ में बाेर्ड बनाएंगे। ये तय है कि नाेखा में कांग्रेस चुनाव लड़ेगी। झंवर से रामेश्वर डूडी बात करते हुए स्थिति संभाल लेंगे। हम सभी काे साथ लेकर मैदान में उतरेंगे और पंचायत चुनाव की तरह क्लीन स्वीप करेंगे।
-महेन्द्र गहलाेत, देहात कांग्रेस अध्यक्ष
^विधानसभा चुनाव के वक्त कन्हैयालाल झंवर काे कांग्रेस अच्छी लगी। अब उन्हें पता है कि कांग्रेस के सिंबल से चुनाव लड़े ताे जनता हरा देगी। झंवर कांग्रेस के लिए उस हड्डी की तरह हैं, जाे ना उगलते बन रही ना निगलते। झंवर का ये बयान कांग्रेस के नेतृत्व और मुख्यमंत्री पर राजनीतिक तमाचा है। कांग्रेस में इतनी हिम्मत नहीं है कि विकास मंच नाेखा में चुनाव लड़े ताे झंवर काे पार्टी से बाहर कर दिया जाए।
-बिहारीलाल बिश्नाेई, विधायक भाजपा नाेखा

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आपकी सकारात्मक और संतुलित सोच द्वारा कुछ समय से चल रही परेशानियों का हल निकलेगा। आप एक नई ऊर्जा के साथ अपने कार्यों के प्रति ध्यान केंद्रित कर पाएंगे। अगर किसी कोर्ट केस संबंधी कार्यवाही चल र...

    और पढ़ें