• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bikaner
  • Kamala Harris Can Be An Advisor To The US President, So Why Can't We Be Of Chief Minister Gehlot?, This Is The Prerogative Of The Chief Minister

गहलोत के नए सलाहकार का अजब बयान:जितेंद्र सिंह बोले- कमला हैरिस अमेरिकी राष्ट्रपति की सलाहकार हो सकती है तो हम मुख्यमंत्री गहलोत के क्यों नहीं?

बीकानेरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कमला हैरिस और जितेंद्र सिंह (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
कमला हैरिस और जितेंद्र सिंह (फाइल फोटो)

एक तरफ जहां मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के एक सलाहकार स्वयं को कैबिनेट मंत्री लिख रहे हैं, वहीं दूसरे सलाहकार डॉ. जितेंद्र सिंह ने दो कदम आगे बढ़कर कहा है कि कमला हैरिस भी अमेरिकी राष्ट्रपति की सलाहकार है। हम भी वैसे ही सलाहकार हैं। बीकानेर यात्रा के दौरान रविवार को उन्होंने कहा कि हमें सलाहकार बनने से कोई रोक नहीं सकता।

यहां एक विवाह समारोह में हिस्सा लेने आए जितेंद्र सिंह ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि हमारे पास कोई वित्तीय अधिकार नहीं है। इसके बाद भी मुख्यमंत्री को प्रदेश के विकास के लिए सलाह तो दी जा सकती है। ये मुख्यमंत्री का विश्वास है कि उन्होंने हमें इतनी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी है। सिंह ने कहा कि कमला हैरिस भी तो अमेरिकी राष्ट्रपति की सलाहकार ही है। ये मुख्यमंत्री का विशेषाधिकार है कि वो किसी को भी अपना सलाहकार बना सकते हैं। उन्होंने माना कि मुख्यमंत्री अपने विधायकों को साथ रखने के लिए पद भी देने पड़े तो देंगे। डेमेज कंट्रोल के लिए सरकार कुछ भी कर सकती है।

मुख्यमंत्री गहलोत की तारीफ करते हुए डॉ. सिंह ने कहा कि कोरोना काल में देश में सबसे बेहतर काम राजस्थान में हुआ है। प्रदेश का एक भी जिला ऐसा नहीं है, जहां ऑक्सीजन प्लांट नहीं है। जितना अच्छा काम राजस्थान में मेडिकल में हुआ है, वो देशभर में नजीर के रूप में देखा जा सकता है।

जगह जगह स्वागत

इससे पहले बीकानेर आने पर जयपुर रोड पर कई जगह डॉ. जितेंद्र का स्वागत किया गया। आज ही ऊर्जा मंत्री भंवर सिंह भाटी भी बीकानेर आ रहे हैं, ऐसे में उनके स्वागत में उमड़ी भीड़ ने पहले डॉ. जितेंद्र का स्वागत किया।

मंत्री रह चुके हैं जितेंद्र सिंह

डॉ. जितेंद्र सिंह राजस्थान विधानसभा के सदस्य है। वो मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के पिछले कार्यकाल में महत्वपूर्ण विभागों में मंत्री रहे हैं, लेकिन इस बार उन्हें मंत्रिमंडल में शामिल नहीं किया गया। मंत्रिमंडल पुर्नगठन में भी उनका नंबर नहीं आया तो मुख्यमंत्री ने अपने सलाहकार बना दिया है।