केसरी सिंह ​​​​​​​बारहठ की 150वीं जयंती मनाई:चारण छात्रावास में बनेगी लाइब्रेरी, प्रतियेगी परीक्षाओं की करवाएंगे तैयारी, सेमिनार होंगे

बीकानेर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
युवाओं के उत्थान के कई प्रस्ताव लिए। - Dainik Bhaskar
युवाओं के उत्थान के कई प्रस्ताव लिए।

स्वतंत्रता सेनानी केसरी सिंह बारहठ की 150वीं जयंती साेमवार काे सादुल गंज स्थित श्री करणी चारण छात्रावास में मनाई गई। इस दाैरान वक्ताओं ने युवाओं काे स्वतंत्रता सेनानियाें के जीवन वृत्त से प्रेरणा लेकर देशहित के लिए आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया। सभी ने माना कि देश की बागडाेर युवा ही संभाल सकते हैं। ऐसे में उनके सर्वांगीण विकास के लिए काम करने से ही स्वतंत्रता सेनानियाें काे हम सच्ची श्रद्धांजलि दे सकेंगे।

इसी उद्देश्य काे लेकर श्री करणी चारण छात्रावास में रहने वाले बच्चाें के लिए लाइब्रेरी बनाने, प्रतियाेगी परीक्षाओं के लिए निशुल्क काेचिंग शुरू करने, संपूर्ण शिक्षण सामग्री हाॅस्टल में ही उपलब्ध करवाने के साथ ही माेटिवेशनल सेमिनार भी आयाेजित करवाने का निर्णय लिया गया।

श्रद्धांजलि सभा में पहुंची पूर्व विधानसभा की विधायक सिद्धी कुमारी ने युवाओं से आह्वान किया वे क्रांतिकारियाें काे अपना आदर्श बनाए। यूआईटी के पूर्व चेयरमैन महावीर रांका व भाजपा नेता गुमान सिंह राजपुराेहित ने भी युवाओं के विकास के लिए काम करने की जरूरत समाज के हर वर्ग के लिए जरूरी बताई।

इससे पहले समाराेह का शुभारंभ श्री करणी मंदिर के पुजारी मिश्र महाराज व मदनदान ने दीप प्रज्ज्वलन व मां करणी की स्तुति करके किया। मंडलीय चारण सभा के अध्यक्ष भंवर दान चारण ने बताया कि कार्यक्रम संयाेजक हेमराज चारण, सभा के उपाध्यक्ष छैलू दान आदि ने चारण छात्रावास की पृष्ठभूमि व आगामी याेजनाओं की जानकारी दी। इस अवसर पर सुरेंद्र सिंह शेखावत, सुरेंद्र सिंह बारहठ, डाॅ. कुलदीप बीठू, करण प्रताप सिंह, बाबूलाल माेहता, माेहन सिहाग, करणी मंदिर निजी प्रन्यास अध्यक्ष बादल सिंह, रामदयाल, सरपंच माेहनदान आदि उपस्थित थे। संचालन चंडीदान कीनिया ने किया।