पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

18 से स्कूल खुलेंगे:स्टाफ-स्टूडेंट्स के लिए मास्क जरूरी, सीट पर ही करेंगे लंच; नहीं होगी प्रार्थना सभा

बीकानेर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • राज्य के 30 हजार स्कूलाें में 9वीं से 12वीं तक के हैं 40 लाख स्टूडेंट
  • बीकानेर के 1350 नर्सिंग-1250 मेडिकल स्टूडेंट की क्लास 11 से

सुनसान पड़े प्रदेशभर के स्कूलों में 18 जनवरी से 9वीं से 12वीं तक के स्टूडेंट्स की चहल-पहल लाैट आएगी। राज्य सरकार के इस आदेश के बाद बुधवार काे स्टूडेंट्स सहित संस्था संचालकाें मे भी खुशी देखी गई। कई काॅलेजाें-स्कूलाें में नई गाइड लाइन के मुताबिक तैयारियां भी शुरू हाे गई। कई अभिभावकाें-संगठनाें ने स्कूल खाेलने से पहले सुरक्षा और एहतियात के उपायाें पर विशेष ध्यान देने की जरूरत जताई है।

सरकार के आदेश के मुताबिक राज्य में मेडिकल, डेंटल, नर्सिंग काॅलेज-स्कूल 11 जनवरी से ही खुल जाएंगे। इसका आशय यह माना जा रहा है कि फ्रंट लाइन से जुड़े इन स्टूडेंट्स का वैक्सीनेशन हाे सके या इस अभियान में इनका पूरा सहयाेग लिया जा सके। खासताैर पर नर्सिंग स्टूडेंट्स की पाेलियाे से लेकर काेविड वैक्सीनेशन तक में भागीदारी हाे जाएगी।

नाैवीं से 12वीं तक के स्टूडेंट्स की कक्षाएं 18 से शुरू करने के आदेश का असर यह हाेगा कि राज्य के लगभग 30 हजार स्कूलाें में इन चार क्लासेज के लगभग 40 लाख स्टूडेंट फिर से कक्षाओं का रुख कर पाएंगे। इसी तरह मेडिकल-नर्सिंग स्टूडेंट के लिहाज से सिर्फ बीकानेर की ही बात करें ताे एसपी मेडिकल काॅलेज में इंटर्न सहित चार बैच के 1250 मेडिकाेज काॅलेज आने के पात्र हाे जाएंगे। इनमें नए बैच के स्टूडेंट भी शामिल है। जिलेभर के नर्सिंग काॅलेजाें, जीएनएम स्कूलाें के लगभग 1350 स्टूडेंट्स की सेवाएं टीकाकरण में मिलने के साथ ही उनकी ऑफलाइन क्लासेज भी शुरू हाे सकेगी।

काेचिंग इंस्टीट्यूट भी 18 जनवरी से शुरू करने का आदेश दिया गया है लेकिन इनके लिए अलग गाइड लाइन जारी हाेगी। सभी क्लासेज में क्षमता से आधे स्टूडेंट काे बिठाने का ही आदेश दिया गया है। ऐसे में एकांतरा यानी एक दिन छाेड़कर एक दिन स्कूल-काेचिंग जाने की याेजना भी बन सकती है।

ऐसे समझें राज्य सरकार की गाइड लाइन के मुख्य बिन्दुओं को

  • स्टूडेंट्स के आगमन और प्रस्थान का समय अलग-अलग रखा जाएगा, ताकि आने और जाने के समय भीड़ नहीं हो।
  • स्टूडेंट्स की उपस्थिति के लिए अभिभावक की सहमति जरूरी। उन्हें बच्चों को स्कूल भेजने के लिए मजबूर नहीं किया जाएगा।
  • स्कूल खुलने से पहले सिटिंग का प्लान नोटिस बोर्ड पर चस्पा किया जाएगा, ताकि विद्यार्थी तय सीट पर ही बैठ सके।
  • यथासंभव स्कूलों में एसी का उपयोग नहीं किया जाए। जरूरत पड़ने पर उसका तापमान 24 से 30 डिग्री सेंटीग्रेड के बीच ही रखा जाए।
  • कोई भी स्टूडेंट अपना पेन, नोटबुक व किताब दूसरों से साझा नहीं करेगा।
  • विद्यार्थी अपने कक्ष में ही भोजन करेंगे और यथासंभव पानी की बोतल खुद लाएंगे।
  • स्टाफ और विद्यार्थियों को मास्क लगाकर रहना होगा। मास्क बिना स्कूल में किसी का भी प्रवेश निषेध होगा।
  • क्लास रूम व स्कूल के सेनेटाइजेशन से जुड़े जरूरी निर्देश
  • स्कूलों में हर समय अतिरिक्त मास्क, सोडियम हाईपोक्लोराईड घोल, सेनेटाइजर उपलब्ध रहे।
  • स्कूलों को दी जाने वाली कंपोजिट ग्रांट में से 10% राशि स्वच्छता पर खर्च की जाए।
  • स्कूल के फर्नीचर, उपकरण, स्टेशनरी, शौचालय, पानी की टंकियां को सेनेटाइज किया जाए।
  • स्कूल वाहिनी को उपयोग से पहले और बाद सेनेटाइज करना होगा। स्कूल वाहिनी में प्रवेश या स्कूल में प्रवेश के समय थर्मल स्केनिंग की जाए।

^सरकार ने 18 जनवरी से 9वीं से 12वीं कक्षा तक स्कूल खोलने का निर्णय लिया है। स्कूल संचालन के लिए एसओपी तैयार कर दी है। केंद्र सरकार, गृह विभाग और चिकित्सा विभाग की गाइडलाइन्स के आधार पर जल्दी ही स्कूलों का संचालन शुरू कर देंगे।
-गोविंदसिंह डोटासरा, शिक्षामंत्री

पेरेंट्स और स्कूल संचालकों ने कहा-अब सभी कक्षाएं शुरू की जाएं

^मेरा मानना है कि सरकार को अब पहली क्लास से सभी स्टूडेंट्स की नियमित ऑफ लाइन पढ़ाई शुरू कर देनी चाहिए।
गिरिराज खैरीवाल, प्रदेश समन्वयक पैपा
^9वीं क्लास से छोटी कक्षा के स्टूडेंट्स के लिए भी ऑफलाइन शिक्षण की सबसे ज्यादा जरूरत है। उनकी क्लास भी तुरंत शुरू कर देनी चाहिए।
काेडाराम भादू, स्कूल एजुकेशन वेलफेयर एसाेसिएशन

^क्या सरकार यह मानती है कि काेविड का खतरा पूरी तरह टल गया? क्या टीचर्स-स्टाफ काे फ्रंट लाइनर मानते हुए वैक्सीनेटेड करेगी? क्या एक ही क्लास में बैठने वाले बच्चाें का वैक्सीनेशन करने की जरूरत है? नए स्ट्रेन के समाचार आ रहे हैं। ऐसे में उससे बचाव के इंतजामाें पर भी विचार करना चाहिए।
महेन्द्र पांडे, शिक्षाविद
^सरकार की गाइड लाइन के अनुरूप ही व्यवस्थाएं करेंगे। एहतियाती उपायाें के बाद ही ऑफ लाइन क्लास शुरू कर पाएंगे। काेचिंग की गाइड लाइन का इंतजार है।

-मनाेज बजाज, काेचिंग संचालक

^सरकार अगले 12 दिनाें में शिक्षकाें के साथ ही स्कूल आने वाले बच्चाें के लिए भी एहतियाती उपाय कर सकती है। बच्चाें या शिक्षकाें में संक्रमण फैल गया, ताे जिम्मेवार काैन हाेगा। इसलिए पहले सभी एहतियाती उपाय हाेने चाहिए।
अभिषेक जैन, अभिभावक संघ
^ट्रांसपाेर्ट, क्लास सेनेटाइजेशन, टीचर-स्टाफ की सिक्याेरिटी सहित काेविड गाइड लाइन की पालन करवाने की पूरी जिम्मेदारी सरकार की हाेनी चाहिए। अगर वह इसमें सक्षम है तभी स्कूल खाेलें।
अंकुर शुक्ला, सिटीजन एसाेसिएशन

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप अपने व्यक्तिगत रिश्तों को मजबूत करने को ज्यादा महत्व देंगे। साथ ही, अपने व्यक्तित्व और व्यवहार में कुछ परिवर्तन लाने के लिए समाजसेवी संस्थाओं से जुड़ना और सेवा कार्य करना बहुत ही उचित निर्ण...

    और पढ़ें