पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

283 करोड़ की हेरोइन तस्करी का मामला:पंजाब में तस्करी का नेटवर्क खंगाल रही एनसीबी, राजस्थान से दिल्ली तक सर्च

बीकानेर/खाजूवाला10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

राजस्थान फ्रंटियर पर सबसे बड़ी हेरोइन तस्करी पकड़ी जाने पर सुरक्षा एजेंसियां हरकत में आ गई हैं। पंजाब के दो तस्करों से पूछताछ के दौरान काला सिंह सहित कई हेरोइन तस्करों के नाम सामने आए हैं। अब पंजाब में हेरोइन तस्करों के नेटवर्क को खंगालने की तैयारी चल रही है। एनसीबी की पंजाब ऑपरेशनल यूनिट को अलर्ट कर दिया गया है।

एनसीबी के डीडीजी ज्ञानेश्वर सिंह ने बताया कि हेरोइन माफिया पैसों का लालच देकर गरीब तबके के बेरोजगार युवाओं को कुरियर के तौर पर इस्तेमाल करते हैं। कालूवाला में पकड़ा गए तस्कर हरमेश की उम्र महज 18 और रूपा की 30 साल है। जॉइंट इंटेरोगेशन के दौरान पुलिस, बीएसएफ, आईबी सहित कई एजेंसियों ने इनसे पूछताछ की है।

कुछ तस्करों के मोबाइल नंबर भी पता चले हैं। इनके दो साथी और थे, जो गाड़ी में ही इंतजार कर रहे थे। गोलियों की आवाज सुनकर फरार हो गए। उनमें से एक का नाम काला सिंह बताया गया है।

कुरियर ही पकड़े जाते हैं, माफिया नहीं : हेरोइन तस्करी की वारदातों में हमेशा कुरियर ही पकड़े गए हैं। नारकोटिक्स विभाग और पुलिस कभी माफिया तक नहीं पहुंच पाई। एक साल पहले हिंदुमलकोट में हुई हेरोइन तस्करी की वारदात में शामिल स्थानीय कुरियर सहित मुख्य आरोपी छिंदा सिंह को पकड़ा गया था, जो अभी जेल में है। बलवंत राय सहित कई मुख्य सरगना अब भी फरार हैं।

अंतरराष्ट्रीय अपराधियों के खिलाफ डीजी ने दिए डोजियर बनाने के आदेश : बीएसएफ डीजी राकेश अस्थाना ने अंतरराष्ट्रीय हेरोइन तस्करों के विरुद्ध डोजियर तैयार करने के आदेश एनसीबी के अधिकारियों को दिए हैं। अस्थाना के पास एनसीबी महानिदेशक का भी चार्ज है। इसलिए दोनों एजेंसियों के बीच तालमेल बना हुआ है।

डीडीजी का कहना है कि पूरा नेटवर्क तोड़ने पर ही ऑपरेशन को सक्सेस माना जाएगा। इंटरपोल की मदद से अंतरराष्ट्रीय तस्करों के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि भारत में भी अवैध रूप से हेरोइन बनाई जा रही है। पूरे विश्व में हेरोइन की 90 प्रतिशत सप्लाई अफगानिस्तान से हो रही है। भारत सबसे बड़ा ट्रांजिट है।

सात दिन के रिमांड पर हेरोइन तस्कर, सतराना हैड क्वार्टर पर पूछताछ शुरू

हेरोइन तस्करी के दोनों आरोपियों को कोर्ट में पेश कर सात दिन के रिमांड पर लिया गया है। उन्हें सतराना स्थित 127 बटालियन के हैड क्वार्टर ले जाया गया है। जहां एनसीबी ने पूछताछ शुरू कर दी है। एनसीबी के दल ने तस्कर रूपा और हरमेश को पहले खाजूवाला मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया। मामला मादक पदार्थ का होने के कारण दोनों को बीकानेर स्थित एनडीपीएस कोर्ट में भी पेश किया गया है।

एनसीबी अधिकारियों ने कोर्ट को बताया कि अपराधियों से गहन पूछताछ कर मुख्य सरगना का पता लगाया जाना है। कोर्ट ने दोनों आरोपियों को सात दिन का रिमांड स्वीकृत किया है। एनसीबी के अधिकारी तस्करों को सतराना में 127 बटालियन हेडक्वार्टर ले गए हैं। जहां उनसे गहन पूछताछ की जा रही है। एनसीबी के डीडीजी ज्ञानेश्वर सिंह भी बटालियन हैडक्वार्टर पहुंचे। उन्होंने भी तस्करों से पूछताछ की।

खबरें और भी हैं...