पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दीवाली सा सेलीब्रेशन:बीकानेर में दीपावली जैसा रहा नये साल का सेलीब्रेशन, बारह बजे जमकर आतिशबाजी

बीकानेर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बीकानेर में नए साल के स्वागत में रात बारह बजे जमकर हुई आतिशबाजी - Dainik Bhaskar
बीकानेर में नए साल के स्वागत में रात बारह बजे जमकर हुई आतिशबाजी

नए साल के उत्सव पर सरकार ने भले ही रोक लगा दी हो लेकिन बीकानेर के लोगों ने जमकर आतिशबाजी करके वर्ष 2020 को अलविदा कहा और साल 2021 का स्वागत किया। रात बारह बजने के साथ ही आतिशबाजी शुरू हो गई, जो आधे घंटे से भी ज्यादा समय तक चलती रही। कड़ाके की सर्दी के बावजूद लोग आतिशबाजी देखने घर की छत पर चढ़े नजर आये।

होटल्स में नहीं हुए ओपन प्रोग्राम

आमतौर पर 31 दिसम्बर की रात बीकानेर के सभी होटल ओपन प्रोग्राम करते हैं, जिसमें स्थानीय लोग भी हिस्सा ले सकते हैं लेकिन इस बार ऐसा कोई आयोजन नहीं हुआ। अधिकांश होटल संचालकों ने सिर्फ अपने गेस्ट्स के लिए कार्यक्रम किया। होटल में वैसे ही बहुत कम कमरे बुक है, ऐसे में इन कार्यक्रमों में भी बहुत कम भीड़ रही। बाहरी लोगों को कार्यक्रम में प्रवेश नहीं दिया गया।

कफ्र्यू की सख्ती नजर आई

बीकानेर में रात आठ बजे से सुबह छह बजे तक के कफ्र्यू का असर आमतौर पर नहीं रहता लेकिन 31 दिसम्बर के कार्यक्रमों पर रोक लगाने के लिए पुलिस प्रशासन ने सख्ती रखी और सात बजे से ही शहर के रेस्टोरेंट्स बंद कराने का सिलसिला शुरू कर दिया। जिन रेस्टोरेंट्स पर आमतौर पर आयोजन होता है, वहां पुलिस ने पहले ही कार्यक्रम नहीं करने की हिदायत दे रखी थी।

पाटों पर रौनक नहीं, धुणी पर दिखे युवा

बीकानेर के पुराने शहर में पाटों पर आमतौर पर नये साल का जश्न होता है। चौक के लोग ही कोई न कोई आयोजन कर लेते हैं लेकिन इस बार ऐसा नहीं हुआ। आचार्यों का चौक, मौहता चौक में बिल्कुल भीड़ नहीं थी। हर्षों के चौक में लोग नजर आए लेकिन कार्यक्रम यहां भी नहीं था। अलबत्ता कुछ चौक में धुणी तपते लोग जरूर नजर आए। किकाणी व्यासों के चौक में धुणी में बैठे युवाओं ने कहा कि पहली बार 31 दिसम्बर को कोई कार्यक्रम नहीं कर रहे।