पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोई मां इतनी निर्दयी कैसे हो सकती है?:नवजात को बिना कपड़ों के झाड़ियों में फेंका, जीरो डिग्री तापमान में नीला पड़ गया शरीर

श्रीडूंगरगढ़13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
श्रीडूंगरगढ़ में जन्म के तुरंत बाद बच्चे को फेंका, पीबीएम में रैफर किया, अब तबीयत में सुधार। - Dainik Bhaskar
श्रीडूंगरगढ़ में जन्म के तुरंत बाद बच्चे को फेंका, पीबीएम में रैफर किया, अब तबीयत में सुधार।

अपने कलेजे के टुकड़े के लिए मौत से भी लड़ जाने वाली मां मंगलवार को निर्दयी कैसे हो गई? यह समझ से परे है। मंगलवार सुबह एक मां ने श्रीडूंगरगढ़ तहसील के लाडेरा गांव में हाड़ कंपकंपाने वाली ठंड में अपने कलेजे के टुकड़े को बिना कपड़ों के कंटीली झाड़ियों में फेंक दिया। गनीमत यह रही कि बच्चे के रोने की आवाज सुनकर भूराराम, श्योकरण और रेवंतराम ने पुलिस को सूचना दी और बिना कपड़ों के पड़े इस नवजात को सर्दी से बचाने के लिए तत्काल कंबल ओढ़ा दिया।

इन लोगों ने पुलिस को बताया कि जब वे वहां से गुजर रहे थे तो वहां घर की बाड़ में एक नवजात के रोने की आवाज सुनाई दी। बच्चे के रोने की आवाज जिधर से आ रही थी, वहां जाकर देखा तो कंटीली झाड़ियों में एक बच्चा दिखा। हाड़ कंपकंपाने वाली इस ठंड में बच्चे के तन पर एक भी कपड़ा नहीं था। पहले तो बच्चे को कंबल ओढ़ाया और फिर गांव की एएनएम गंगादेवी को मौके पर बुलाया।

एएनएम के आने के बाद बच्चे को 108 एंबुलेंस में श्रीडूंगरगढ़ हॉस्पिटल पहुंचाया। यहां डॉक्टर एसएस नांगल ने उसे संभाला और नवजात को कपड़े मंगवाकर पहनाए। बच्चे की हालत में थोड़ा सुधार होने के बाद उसे बीकानेर के पीबीएम हॉस्पिटल रैफर कर दिया। जहां उसकी हालत में सुधार दिख रहा है। भूराराम जाट ने अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ श्रीडूंगरगढ़ थाने में मुकदमा दर्ज करवाया है।

झाड़ियों में मिलने से करीब 30 मिनट पहले ही हुआ था जन्म

श्रीडूंगरगढ़ हॉस्पिटल के डॉ. एसएस नांगल ने बताया कि जन्म के आधे घंटे बाद ही नवजात को झाड़ियों में फेंक दिया गया। कंटीली झाड़ियों में फेंकने के कारण बच्चे के हाथ, पैर, गले और पेट पर कांटे भी चुभ गए। करीब चार से पांच घंटे तक बिना किसी कपड़ों के ठंड में रहने के कारण बच्चे को हाइपोथर्मिया हो गया था, जिससे उसका शरीर नीला पड़ गया।

ग्रामीणों ने बच्चे को जब संभाला तब उसकी सांसें रुक-रुक कर चलने की स्थिति में थी। एएनएम गंगादेवी ने कृत्रिम सांस दी, जिसके कारण ही उसकी जान बच पाई। पीबीएम के पीडिएट्रिक हाॅस्पिटल के डाॅ. मदनगाेपाल ने बताया कि अब बच्चे की हालत में सुधार है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- व्यस्तता के बावजूद आप अपने घर परिवार की खुशियों के लिए भी समय निकालेंगे। घर की देखरेख से संबंधित कुछ गतिविधियां होंगी। इस समय अपनी कार्य क्षमता पर पूर्ण विश्वास रखकर अपनी योजनाओं को कार्य रूप...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser