आदेश जारी:अब छुट्‌टी के दिन भी होगी डेंगू की जांच; अष्टमी पर नहीं हुई

बीकानेर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पीबीएम और जिला हॉस्पिटल में अब छुट्टी के दिन भी डेंगू की जांच होगी। गुरुवार को जिला कलेक्टर नमित मेहता ने इस आशय के आदेश जारी किए। उन्होंने मेडिकल कॉलेज के प्रिंसीपल को रविवार सहित अन्य राजकीय अवकाश के दिन डेंगू की जांच व्यवस्था को पुख्ता करने के निर्देश दिए। जिले में पीबीएम और जिला हॉस्पिटल में ही डेंगू की जांच होती है, लेकिन बुधवार को राजकीय अवकाश के चलते गुरुवार को डेंगू की जांच नहीं हुई।

ऐसे में मेडिकल कॉलेज से गुरुवार को डेंगू की जीरो रिपोर्ट मिली। जबकि बुधवार को डेंगू के नए 26 पेशेंट्स पॉजिटिव रिपोर्ट हुए थे। उल्लेखनीय है कि दैनिक भास्कर ने 12 अक्टूबर को शहर बीमारी में-सिस्टम वेंटिलेटर पर शीर्षक से खबर प्रकाशित कर डेंगू मरीजों की अनदेखी को उजागर किया था। खबर में छुटटी और राजकीय अवकाश के दिन डेंगू की जांच नहीं होने से पेशेंट्स को होने वाली परेशानी का भी उल्लेख किया गया था।

जिला कलेक्टर ने बताया कि डेंगू पर प्रभावी नियंत्रण एवं हॉस्पिटल में आने वाले पेशेंट्स की सुविधा को ध्यान में रखते हुए 15 अक्टूबर को विजयादशमी, 17 अक्टूबर को रविवार, 19 अक्टूबर को बारहवफात तथा इसके बाद के राजकीय अवकाशों में भी डेंगू के मरीजों से संबंधित लेब टेस्टिंग का कार्य संचालित किया जाएगा।

एडवाइजरी: बच्चों को फुल बॉडी कवर यूनिफार्म पहननी होगी: डेंगू उन्मूलन के मद्देनजर जिला कलेक्टर नमित मेहता ने मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी को स्कूलों के लिए एडवाइजरी जारी करने के निर्देश दिए हैं। कलेक्टर ने बताया कि जिले में डेंगू के विरुद्ध जागरुकता और नियंत्रण के लिए विशेष अभियान अभियान चलाया जाएगा। इसी क्रम में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के विशेषज्ञ चिकित्सकों से हुई चर्चा के अनुसार जिले की सभी राजकीय एवं निजी विद्यालयों के संस्था प्रधानों के लिए एडवाइजरी जारी करनी होगी। एडवाइजरी के अनुसार विद्यार्थियों और अभिभावकों को यह अवगत करवाना होगा कि विद्यार्थी शाला में फुल बॉडी कवर यूनिफार्म में ही उपस्थित हों।

सप्ताह में दो दिन अभियान

डेंगू के खिलाफ अब सप्ताह में दो दिन विशेष अभियान शुरू किया जाएगा। शनिवार को सरकारी कार्यालयों और रविवार को घरों में मच्छरों का खात्मा करने के प्रयास किए जाएंगे। गुरुवार को जिला कलेक्टर नमित मेहता ने डेंगू को लेकर रखी समीक्षा बैठक में यह बात कही। कलेक्टर ने कहा कि इस कार्य के लिए जनप्रतिनिधियों, एनएसएस, एनसीसीए स्काउट गाइड, स्वयंसेवी संस्थाओं, पुलिस बीएसएफ, उद्योगपतियों, धर्मगुरुओं तथा महिला संगठनों का सहारा लिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...