पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

आज शाम को पहुंचेगा खुशियों वाला टीका:अब शहर के सिर्फ पांच बूथ पर ही होगा वैक्सीनेशन

बीकानेर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिले में सात जगह हुआ ड्राई रन, सरकार ने प्रदेश में 282 की जगह 161 वैक्सीनेशन साइट तय की
  • जयपुर से पुलिस सुरक्षा वाली वैन में आएगा टीका

आखिरकार खुशियों वाली कोविड वैक्सीन आज बीकानेर पहुंच रही है। सुबह छह बजे बीकानेर से एक वैन जयपुर के लिए रवाना होगी। दोपहर लगभग एक बजे वहां से वैक्सीन लेकर रवाना होगी और शाम तक बीकानेर आ जाएगी। वैक्सीन की सुरक्षा के लिए पुलिस की गाड़ी भी साथ रहेगी।

बुधवार को दोपहर तक बीकानेर में 12 जगह वैक्सीनेशन होना तय था। इसी लिहाज से बची हुई सात जगह ड्राई रन भी हुआ लेकिन दोपहर को केंद्र सरकार ने प्रदेश में वैक्सीनेशन साइट की संख्या कम करने का आदेश दिया। इस आदेश के मुताबिक पूरे राजस्थान में अब 282 की जगह 161 साइट पर वैक्सीनेशन होगा। ऐसे में बीकानेर में भी 12 की जगह पांच बूथों पर ही वैक्सीनेशन करना तय किया गया।

इन पांच बूथों की सूची हालांकि गुरुवार सुबह कलेक्टर की अध्यक्षता वाली डिस्ट्रिक्ट टास्क फोर्स तय करेगी लेकिन मोटे तोर पर तय है कि सभी बूथ शहरी क्षेत्र में ही होंगे। ऐसे में अगर प्राइवेट हॉस्पिटल को शामिल नहीं किया जाए तो मेडिकल कॉलेज, पीबीएम हॉस्पिटल और गंगाशहर डिस्पेंसरी में वैक्सीनेशन होगा। इसकी एक वजह यह भी है कि कहीं वैक्सीन से किसी की तबियत बिगड़े तो उसे तुरंत उपचार दिया जा सके।

  • जयपुर से पुलिस सुरक्षा वाली वैन में आएगा टीका
  • 16 से होगी शुरुआत, हफ्ते में 4 दिन लगेगा
  • ग्रामीण क्षेत्रों के 7 बूथ हटा दिए केंद्र सरकार ने
  • जिले में 17681 लोगों ने कराया रजिस्ट्रेशन

जनवरी में पांच बूथ पर 10 दिन लगेंगे टीके, यानी अधिकतम 5000 हैल्थवर्कर को लग पाएगी डोज

सरकार के नए आदेश के मुताबिक बीकानेर में पांच बूथों पर वैक्सीनेशन होगा। हर बूथ पर एक दिन में अधिकतम 100 लोगों को टीका लगाएंगे। यह क्रम सप्ताह में चार दिन चलेगा। इस लिहाज से जनवरी में कुल 10 दिन टीकाकरण होगा और हर दिन अधिकतम 500 हैल्थवर्कर को डोज लगेगी। मतलब यह कि 31 जनवरी तक बीकानेर में अधिकतम 5000 लोगों का वैक्सीनेशन होगा।

सरकार के इस आदेश के मुताबिक सीएमएचओ डाॅ. सुकुमार कश्यप ने टीकाकरण के 10 दिन का कैलेंडर भी तैयार किया है। बीकानेर में 17681 हैल्थवर्कर टीका लगाने के लिए रजिस्टर्ड हुए हैं। ऐसे में इसी रफ्तार और प्रणाली से टीके लगाए गए तो फरवरी के पूरे महीने तक हैल्थवर्कर के टीकाकरण का पहला चरण ही चलेगा। ऐसे में दूसरा चरण मार्च में शुरू हो सकता है।

किस दिन लगेंगे टीके
तारीख वार
16 जनवरी शनिवार
18 जनवरी सोमवार
19 जनवरी मंगलवार
22 जनवरी शुक्रवार
23 जनवरी शनिवार
25 जनवरी सोमवार
27 जनवरी बुधवार
29 जनवारी शुक्रवार
30 जनवरी शनिवार
31 जनवरी रविवार

पहले दिन पीएम के भाषण के बाद होगी शुरुआत, बाद में सुबह 9 से 5 बजे तक का रहेगा समय

  • पहले दिन यानी 16 जनवरी को प्रधानमंत्री की ओर से लाॅन्चिंग के बाद ही वैक्सीनेशन शुरू होगा। इसके बाद सुबह नौ से पांच बजे तक के सत्र होंगे।
  • बूथ पर पांच बजे तक लाभार्थी पहुंचेगा तो उसे टीका लगाकर ही भेजेंगे।
  • फर्स्ट इन फर्स्ट आउट सिस्टम से टीकाकरण होगा।
  • बूथ पर तय सभी लोगों का टीकाकरण होते ही बूथ बंद कर दिया जाएगा। मतलब यह कि हर वक्त पांच बूथ ही एक्टिव रहेंगे।
  • कोवीशील्ड वैक्सीन काम में लेंगे। इसमें प्रति वॉयल 10 डोज होगी। रिजर्व के लिए कुछ डोज कोवेक्सीन की भी होगी लेकिन यह उपयोग में नहीं लेंगे।
  • एक बार किसी के कोवीशिल्ड लगी है तो 28 दिन बाद दूसरी डोज भी इसी ब्रांड की होगी।

एक्सपर्ट व्यू : कोविड वैक्सीन से जुड़े जरूरी सवालों के जवाब दे रहे हैं डॉ. गुंजन सोनी

Q | वैक्सीन की कितनी डोज लेनी होगी और वह भी कितने-कितने अंतराल पर? A| इसकी दो खुराक लेनी जरूरी हैं। 28 दिन बाद दूसरा डोज दिया जाएगा। Q |वैक्सीनेशन के बाद शरीर में एंटीबॉडी बनना कब शुरू होगी? A| दूसरे डोज के 2 हफ्ते बाद ही वायरस के खिलाफ पर्याप्त एंटीबॉडी डवलप होगा, तब तक सभी को कोविड बिहेवियर और गाइडलाइन का पालन करते रहना चाहिए। Q | अगर कोई कैंसर, डायबिटिज, हाई ब्लड प्रेशर आदि जैसी बीमारियों की दवा ले रहा है, तो क्या वह कोविड वैक्सीन ले सकता है? A| जो व्यक्ति एक या एक से अधिक कोमॉरबिड कंडीशन से गुजर रहे हैं, वो भी वैक्सीनेशन करा सकते हैं। क्योंकि वास्तव में वो हाई रिस्क ग्रुप में हैं। उन्हें खुद को बचाने के लिए कोविड-19 वैक्सीन लेना चाहिए। यह उनके लिए महत्वपूर्ण है कि उनकी दवाओं की वजह से वैक्सीन के प्रभाव पर कोई असर नहीं होगा। Q| वैक्सीनेशन की तारीख के बारे में जानकारी कैसे मिलेगी? A| रजिस्ट्रेशन के बाद लाभार्थी को रिजस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एसएमएस मिलेगा, जिसमें उन्हें वैक्सीनेशन की तारीख, स्थान और समय बताया जाएगा। तय तारीख पर लाभार्थी को रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एसएमएस मिलेगा। वैक्सीनेशन की सभी डोज पूरी होने पर लाभार्थी के रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक क्यूआर कोड बेस्ड सर्टिफिकेट भी भेजा जाएगा। Q | वैक्सीनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन को लेकर कौन से डॉक्यूमेंट्स की जरूरत होगी? A| रजिस्ट्रेशन के लिए फोटो वाले डॉक्यूमेंट्स या आईडी का ही इस्तेमाल करें। इसके लिए ड्राइविंग लाइसेंस, पेन कार्ड, वोटर आई, पासबुक, पासपोर्ट, पेंशन डॉक्यूमेंट, मनरेगा जॉब कार्ड, केंद्र व राज्य सरकार द्वारा कर्मचारियों को जारी पहचान पत्र का इस्तेमाल कर सकते हैं। Q | हैल्थ डिपार्टमेंट में रजिस्ट्रेशन कराए बिना भी क्या कोई वैक्सीन लगवा सकता है? A| नहीं। वैक्सीनेशन के लिए लाभार्थी को रजिस्ट्रेशन करवाना अनिवार्य है। रजिस्ट्रेशन के बाद ही लाभार्थी को साइट पर जाने और वैक्सीनेशन के सही समय के बारे में जानकारी मिलेगी। Q | क्या भारत में बनीं वैक्सीन अन्य देशों में बनीं वैक्सीन की तरह ही प्रभावी होंगी? A| हां। भारत में इजाद की गईं कोविड वैक्सीन अन्य देशों द्वारा विकसित वैक्सीन के समान ही इफेक्टिव होंगी। Q | अगर कोई दूसरी डोज़ लगवाने से चूक गया तो क्या होगा? A| ऐसा होने पर दूसरी डोज कभी भी लगवा सकते हैं। अभी भारत में इसका कोई प्रोटोकॉल तय नहीं है, लेकिन ये जितनी जल्दी लगवा ली जाए उतना अच्छा रहेगा। Q |क्या दोनों डोज एक ही कंपनी की होनी चाहिए? A| दोनों डोज एक ही ब्रैंड की होनी चाहिए। यानी अगर आप पहली डोज कोवैक्सीन की लगाते हैं तो दूसरी वैक्सीन भी इसी कंपनी की होनी चाहिए। Q | क्या गर्भवती महिलाएं यह वैक्सीन लगवा सकती हैं? A| अभी भारत में वैक्सीन्स का अप्रूवल 18 साल से ज्यादा उम्र के लोगों और ऐसी महिलाएं जो गर्भवती नहीं हैं उनके लिए है। आगे के ट्रायल्स में इन चीजों को देखा जाएगा।

डॉ. गुंजन सोनी मेडिकल कॉलेज में श्वसन रोग विभागाध्यक्ष हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज आप में काम करने की इच्छा शक्ति कम होगी, परंतु फिर भी जरूरी कामकाज आप समय पर पूरे कर लेंगे। किसी मांगलिक कार्य संबंधी व्यवस्था में आप व्यस्त रह सकते हैं। आपकी छवि में निखार आएगा। आप अपने अच...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser