पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bikaner
  • Nursing Personnel Nuts; Shaking Hands With Serious Patients Every Day Hello Sir, How Are You Feeling, Don't Worry You Will Be Fine Soon

मेवा की सेवा:नर्सिंग कर्मी मेवा; रोज गंभीर रोगियों से हाथ मिलाकर पूछता है-  हेलो सर, कैसा महसूस कर रहे, चिंता मत कीजिए जल्द ठीक होंगे

बीकानेर22 दिन पहलेलेखक: नवीन शर्मा
  • कॉपी लिंक
  • कोविड हॉस्पिटल के नर्सिंग कर्मी की आवाज से ही मरीज फील गुड करते हैं

ये पीबीएम कोविड एमसीएच विंग है। यहां एक नर्सिंग कर्मचारी रोजाना गंभीर मरीजों से मिलता है। उनसे हाथ मिलाता है और पूछता है...हेलो सर, कैसे हैं आप, अब कैसा महसूस कर रहे हैं, चिंता मत कीजिए आप जल्दी ठीक हो जाएंगे, देखिए आपके पड़ोसी भी आज घर जा रहे हैं।

यह नर्सिंग कर्मचारी और कोई नहीं पीबीएम हॉस्पिटल में नर्सिंग सुपरवाइजर मेवा सिंह है। मेवा सिंह को ऑडिटर के तौर पर कोविड हॉस्पिटल में लगाया हुआ है। लेकिन वह अपने काम के साथ-साथ कोरोना के मरीजों को मोटिवेट करके जल्दी ठीक होकर वापस घर लौटने और पहले जैसी जिंदगी जीने की उम्मीद जगाने का काम कर रहे हैं। उनके यह प्रयास मरीजों के लिए संजीवनी से कम नहीं हैं। इस एक महीने में कई गंभीर रोगी डॉक्टर के इलाज के साथ-साथ बेहतर नर्सिंग केयर से ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं।

कोविड वार्ड में मरीजों को डॉक्टर से ज्यादा मेवा सिंह का इंतजार रहता है। पीपीई किट पहन माइक हाथ में लेकर वह सभी वार्डों में कोरोना एडवाइजरी की जानकारी देने के साथ-साथ अटेंडेंट को भी नर्सिंग केयर सिखा रहे हैं। रोजाना डेटॉल से मरीज की सफाई करने, गाउन सही तरीके से पहनने, बेड के आस-पास गंदगी नहीं फेलाने जैसी बातें बता रहे हैं। यहां तक पूछते हैं कि किसी मरीज के अटेंडेंट ने खाने का ऑर्डर दिया कि नहीं। भोजनालय संपर्क पर मरीजों के लिए खाने की व्यवस्था भी कर रहे हैं। मेवा सिंह कहते हैं कि डॉक्टर की दवाइयां अपना काम करती हैं, लेकिन किसी मरीज के जल्दी ठीक होने के लिए उसकी अच्छी नर्सिंग केयर जरूरी है। मैं उन्हें मोटिवेट करके मन से डर भगाता हूं।

ठीक होकर गए मरीजों ने कहा-मेवा सिंह ने खूब मोटिवेट किया

कोविड हॉस्पिटल से ठीक होकर घर जा चुके कुछ मरीजों से हमने संपर्क किया। तारानगर निवासी फूलाराम ने बताया कि उनके परिवार की हरपाई देवी, लिछमा और सुभाष 25 दिन भर्ती रहे। तीनों ही सीरियस थे। मेवा सिंह रोज आकर उन्हें मोटिवेट करते थे। श्रीडूंगरगढ़ की मीना मोरवानी, महेंद्र, मदनलाल भी मेवा सिंह के मोटिवेशन से प्रभावित हैं। छबीली घाटी क्षेत्र में रहने वाले भूपेंद्र खत्री को रविवार को छुट्‌टी मिल गई। उन्होंने मेवा सिंह सहित हॉस्पिटल स्टाफ का आभार जताया।

पीबीएम अधीक्षक ने मेवा सिंह को एमसीएच विंग में ऑडिटर लगाया था, लेकिन उनका काम काफी सराहनीय रहा है। कोविड का स्टाफ पूरी लगन से काम कर रहा है।

-डॉ. मनोहर दवां, नोडल प्रभारी, एमसीएच कोविड विंग

पीबीएम हॉस्पिटल में कोरोना के 271 मरीज भर्ती हैं। इनमें से 122 मरीज कोविड हॉस्पिटल में हैं। वेंटिलेटर भी अब खाली होने लगे हैं। कोरोना से अब काफी राहत है।
-डॉ. सुरेंद्र वर्मा, नोडल अधिकारी, कोविड-19, पीबीएम हॉस्पिटल

खबरें और भी हैं...