पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

स्कूलों में नहीं पहुंची नई किताबें:बिना किताबों के हो रही है 10वीं-12वीं के 21 लाख विद्यार्थियों की ऑनलाइन पढ़ाई, नहीं हो पा रहा होमवर्क

बीकानेर18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • इसी सत्र से बदला है 10वीं -12वीं का सिलेबस

10वीं -12वीं के 21 लाख विद्यार्थियों की पढ़ाई बिना किताबों के ही ऑनलाइन हो रही है। किताबों के अभाव में विद्यार्थियों को गृह कार्य करने में समस्या आ रही है। 10वीं -12वीं की कक्षाओं में इसी सत्र से एनसीईआरटी का नया पाठ्यक्रम लगा है। नई किताबें अभी तक स्कूलों में नहीं पहुंची है।

विद्यार्थियों की ऑनलाइन पढ़ाई शुरू हो चुकी है। स्माइल प्रोजेक्ट के तहत रोजाना विद्यार्थियों को स्टडी मेटेरियल उपलब्ध कराया जा रहा है। शिक्षक की ओर से ऑनलाइन दिया गया कार्य विद्यार्थी बिना किताबों के नहीं कर पा रहे हैं।

उधर, सीडीईओ राजकुमार शर्मा ने बताया कि पाठ्य पुस्तक मंडल से 10वीं- 12वीं की किताबें आ चुकी है। जिनका वितरण शुरू कर दिया गया है। जल्दी स्कूल में किताबें पहुंच जाएगी। ऑनलाइन पढ़ाई के साथ-साथ विद्यार्थियों को हर सप्ताह एक क्विज भी करना पड़ रहा है। ग्रामीण क्षेत्र में जिन विद्यार्थियों के पास मोबाइल नहीं है। वहां शिक्षकों को ऑफलाइन जाकर वह क्विज करवाना पड़ रहा है।

शिक्षक संघ राष्ट्रीय के पदाधिकारियों ने इस व्यवस्था को बदलने की मांग की है। संगठन पदाधिकारियों ने इस संबंध में शिक्षा मंत्री को ज्ञापन भेजकर संसाधन के अभाव में क्विज को बंद करने की मांग की है।

खबरें और भी हैं...