विरोध:बीएलओ के मानदेय को आयकर में जोड़ने के फैसले का विरोध

बीकानेरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

निर्वाचन कार्य में लगे बीएलओ को मिलने वाले मानदेय को आयकर में जोड़ने के निर्देशों का विरोध शुरू हो गया है। शिक्षक संघ शेखावत के पदाधिकारियों ने सरकार के इस फैसले का विरोध किया है। उनके प्रदेश अध्यक्ष महावीर सिहाग ने बताया कि निर्वाचन कार्य में लगे बीएलओ को मिलने वाले मानदेय 6 हजार रुपए वार्षिक को आयकर में जोड़ने के लिए जिला निर्वाचन अधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि इस संबंध में समस्त बीएलओ से लिखित में सहमति ली जाए।

उन्होंने बताया कि 500 रुपए प्रति माह मिलने वाली यह राशि फोटो स्टेट, पेन और मोटर साइकिल के फ्यूल के लिए प्रदान की जाती है। ये कोई वेतन नहीं है। संघ के महामंत्री उपेन्द्र शर्मा ने कहा कि राज्य का कोई भी शिक्षक जो बीएलओ का कार्य कर रहा है, लिखित में अपनी सहमति प्रदान नहीं करेगा। संगठन ने सरकार से बीएलओ कार्य में लगे शिक्षकों को मुक्त करने की मांग भी रखी है। संगठन के जिलाध्यक्ष संजय पुरोहित और जिला मंत्री शिव शंकर गोदारा ने कहा कि सरकार ने यदि इस आदेश को वापिस नहीं लिया तो, पूरे ज़िले के बीएलओ एकजुट होकर बीएलओ कार्य का बहिष्कार करेंगे।

खबरें और भी हैं...