मौसमी बिमारियां:बारिश के बाद मलेरिया व डेंगू का रिकॉर्ड, 15 दिन में 100 से अधिक मरीज, सबकी प्लेटलेट्स कम

बीकानेर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • अधिकतर मरीजों को डेंगू-मलेरिया जैसे लक्षण, सीएमएचओ के रिकॉर्ड में एक भी रोगी नहीं

संभाग के सबसे बड़े हॉस्पिटल पीबीएम में मलेरिया और डेंगू के मरीजों ने दस्तक देनी शुरू कर दी है। रविवार को गंगाशहर में रहने वाले 32 वर्षीय युवक की मलेरिया रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उसे पीबीएम में भर्ती किया गया है। मरीज का पिछले कुछ दिनों से बुखार नहीं टूट रहा था।

मरीज ने मलेरिया की जांच बाहर की लैब से करवाई थी, जिसे हॉस्पिटल प्रशासन प्रमाणिक नहीं मानता। उसकी दोबारा जांच करवाई जाएगी। पीबीएम के सीनियर फिजिशियन डॉक्टरों की मानें तो हॉस्पिटल की ओपीडी और घर पर परामर्श लेने के लिए पहुंच रहे अधिकतर मरीज वायरल बुखार की चपेट में होते हैं। उनकी ब्लड जांच करवाने पर प्लेटलेट्स 50 हजार से कम होती है। जिन मरीजों की प्लेटलेट्स लगातार कम हो रही हो या उनका बुखार टूट नहीं रहा हो, उन्हें हॉस्पिटल में भर्ती किया जा रहा है।

डॉक्टर्स के अनुसार पिछले 15 दिन में 100 से अधिक ऐसे मरीज सामने आ चुके हैं, जिनकी प्लेटलेट्स 50 हजार से कम थी। इस प्रकार के मरीजों को हॉस्पिटल में भर्ती कर इलाज किया गया। अच्छी बात यह है कि अभी तक डेंगू और मलेरिया से किसी भी मरीज की मौत नहीं हुई है। हालांकि इसके बावजूद सावधानी बरतना जरूरी है क्योंकि शहर के कई इलाकों में अभी भी जलभराव है।

एक्सपर्ट: बारिश ज्यादा होने से, इसलिए इस साल खतरा ज्यादा
इस साल बारिश ज्यादा हुई है। मच्छरों ने भी अंडे देना शुरू कर दिया है। अधिकतर मरीजों में डेंगू और मलेरिया के लक्षण दिखाई दे रहे हैं। 15 दिन में 100 से अधिक मरीजों को प्लेटलेट्स कम होने के कारण भर्ती करना पड़ा। घर के आसपास या छत पर किसी भी सूरत में पानी का ठहराव नहीं होने दें।
-डॉ. परमेंद्र सिरोही, सीनियर फिजिशियन, पीबीएम हॉस्पिटल

खबरें और भी हैं...