प्रदर्शन:काली पट्टी बांधकर ऑफिस पहुंचे टैक्स ऑफिसर, कमिश्नर के आगे विरोध, सीएम के नाम ज्ञापन दिया

बीकानेरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

राज्यकर विभाग के कर अधिकारियों ने शुक्रवार को पुनर्गठन के विरोध में काली पट्टी बांधकर ऑफिस में काम किया। इससे पूर्व उन्होंने ऑफिस के बाहर प्रदर्शन कर कमिश्नर को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा। राज्य कर विभाग के सहायक आयुक्त एवं संयुक्त संघर्ष समिति के संभागीय प्रतिनिधि ओम प्रकाश गोदारा ने बताया कि जीएसटी लागू होने के वर्षों बाद विभागीय पुनर्गठन किया गया, लेकिन उसमें कई खामियां रख दी।

खामियों का खमियाजा अधिकारियों के साथ-साथ व्यापारियों को भी भुगतना पड़ेगा। उन्होंने बताया कि अब अधिकतर शाखाओं का संचालन जयपुर से ही होगा। इससे अधिकारियों एवं कर्मचारियों के पदोन्नति के अवसरों को कम किया गया है, जो बजट घोषणा के विपरीत है। साथ ही व्यापारी वर्ग को जीएसटी से जुड़े अधिकतर कार्य एवं रजिस्ट्रेशन तथा बिजनेस ऑडिट के लिए जयपुर के चक्कर काटने पड़ेंगे। गोदारा ने बताया कि विरोध की रणनीति अपनाने से पहले विधायक, सांसद और मंत्रियों को ज्ञापन सौंपे गए थे, लेकिन सरकार ने इस ओर ध्यान नहीं दिया।

ये हैं प्रमुख मांगे

  • बिजनेस ऑडिट को विकेन्द्रीकृत कर सशक्त करना तथा राज्य के करदाता संख्या के अनुपात में कैडर का तार्किक विस्तार कर जोन स्तर पर अलग से ऑडिट व्यवस्था करने की मांग।
  • विभाग में ऑडिट कार्य और राजस्व प्रशासन कार्य को अलग कर दोनों का अलग से पद्सोपान स्थापित करना ताकि दोनों अलग-अलग विशेषज्ञ सेवाओं का सही संपादित हो।
  • केन्द्रीय पंजीयन इकाई के स्थान पर जोन स्तर पर पंजीयन की अलग व्यवस्था स्थापित करना जिसमें पर्याप्त मानव संसाधन हो।
  • केन्द्र सरकार और अन्य राज्यों की व्यवस्था के अनुरूप केन्द्रीयकृत इंफोर्समेंट विंग के स्थान पर विकेंद्रीकृत व्यवस्था स्थापित करना जिसमें जोन स्तर पर पर्याप्त मानव संसाधन हो।
खबरें और भी हैं...