पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आज से खुलेंगे स्कूल:बच्चों को नहीं जाना होगा; टीचर पहुंचेंगे, क्लास ऑनलाइन चलेगी

बीकानेर6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

गर्मी की छुटि्टयां खत्म हो गई हैं। सोमवार से राज्य के सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूल खुल जाएंगे। कोरोना के कारण बच्चों को नहीं जाना होगा। केवल शिक्षक ही स्कूल जाएंगे। कक्षाएं वाट्सएप पर लगाई जाएंगी। राज्य के सरकारी स्कूलों में करीब तीन लाख शिक्षक हैं। इनमें से डेढ़ लाख शिक्षकों की कोरोना में ड्यूटी लगी है। इनमें से उन्हीं शिक्षकों को स्कूल बुलाया है, जिन्हें कोरोना ड्यूटी से मुक्त कर दिया गया है।

गर्मी की छुटि्टयों में घर गए शिक्षकों को दस जून तक राहत दी गई है। वाहनों का आवागम शुरू होने के बाद वे स्कूल जा सकेंगे। ऐसे शिक्षकों को बाध्य नहीं किया जाएगा। हालांकि राज्य में कई स्थानों पर ऐसे शिक्षकों को सोमवार से स्कूल जॉइन करने पर दबाव बनाया जा रहा है।

कई संस्था प्रधानों ने तो आदेश भी जारी कर दिए हैं। कोरोना को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग एवं गृह विभाग की गाइडलाइन के अनुरूप ही स्कूलों में पढ़ाई कराई जाएगी। फिलहाल कक्षाएं वाट्सएप पर लगेंगी। स्कूलों को ड्यूटी के लिए शिक्षकों को रोटेशन बनाया जाएगा।

आओ घर में सीखें 2.0 अभियान चलाया जाएगा : प्रवेशोत्सव के प्रथम चरण में आओ घर में सीखें -2.0 अभियान चलाया जाएगा । इसके लिए पेरेंट्स के वाट्स एप ग्रुप बनाए जाएंगे। इसी पर ऑन लाइन क्लास ली जाएगी। यह काम 19 जून से शुरू होगा। 50% शिक्षक स्कूल और 50% शिक्षक फील्ड में काम करेंगे। पुराने स्टूडेंट्स से सम्पर्क कर नए स्टूडेंट्स को जोड़ना होगा।

विशेष आवश्यकता वाले बालक - बालिका की पहचान और उनका नामांकन। उन्हें औपचारिक शिक्षा से जोड़ा जाएगा। पेरेंट्स को आओ घर में सीखें -2.0 स्माइल, शिक्षावाणी, शिक्षा दर्शन के संबंध में जानकारी दी जाएगी।

स्कूलों में शिक्षकों को करने होंगे इतने काम

  • विद्यालय में सफाई जैसे-परिसर, शौचालयों, कमरे, पीने के पानी की टंकी, हो सके तो सैनेटाइजर करवाना।
  • सभी अध्यापक अपनी कक्षा का वाट्सएप ग्रुप बनाकर बच्चों व विषयाध्यापकों के मोबाइल नंबर जोड़ेंगे।
  • प्रत्येक कक्षा के वाट्सएप ग्रुप प्रभारी कक्षाध्यापक होगें जो प्रतिदिन ई- कंटेंट सामग्री ग्रुप में भेजेंगे।
  • प्रत्येक विषयाध्यापक बच्चों को नियमित रूप से गृहकार्य देंगे व जांच करके पोर्टफोलियो फाइल में संधारित करेंगे। बच्चों से काॅलिंग रिकार्ड गृह कार्य का रजिस्टर बनाया जाएगा।
  • शाला दर्पण प्रभारी पोर्टल पर कक्षाध्यापक व विषय अध्यापक की मैपिंग होगी। प्रत्येक विषयाध्यापक स्टाफ लर्निंग से कक्षावार बच्चों की मैपिंग करेंगे।
  • पोषाहार प्रभारी को राशन के कॉम्बो पैकेट वितरण करना होगा। इसकी सूचना भी तैयार करनी पड़ेगी।
खबरें और भी हैं...