• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bikaner
  • The Health Officer Sat For One And A Half Hours In The Renovation Program Of The Ward, 500 Meters. The Crowd Kept Breaking To Slip Away... No One Went To Make Arrangements

पीबीएम अस्पताल में जिम्मेदारों की गैरसंजीदगी की तस्वीर:हैल्थ अफसर वार्ड के रेनोवेशन प्रोग्राम में डेढ़ घंटे बैठे, 500 मी. दूर पर्ची के लिए भीड़ टूटती रही... कोई व्यवस्था बनाने नहीं गया

बीकानेरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिले में फैल रहे डेंगू के बावजूद हॉस्पिटल में आने वाले पेशेंट्स की अनदेखी हो रही है। संभाग के सबसे बड़े पीबीएम में डेंगू और बुखार से जुड़े पेशेंट्स को पर्ची कटवाने से लेकर डॉक्टर को दिखाने और जांच करवाने में ही तीन से चार घंटे लग रहे हैं। डेंगू की गंभीरता के बावजूद चिकित्सा प्रशासन ने पेशेंट्स को राहत देने के कोई इंतजाम नहीं किए हैं।

हैरानी तो इस बात की है कि गुरुवार को मेडिकल कॉलेज के प्रिंसीपल, पीबीएम के अधीक्षक और कलक्टर सहित जनप्रतिनिधि पीबीएम के आई वार्ड के नवीनीकरण समारोह में गए, लेकिन उन्होंने डेंगू मरीजों की दुर्दशा को देखना तक मुनासिब नहीं समझा। जबकि आई वार्ड के पास ही मेडिसिन वार्डों में डेंगू पेशेंट्स की भरमार है। मजबूरन उन्हें फर्श पर लेटकर अपना इलाज करवाना पड़ रहा है। पीबीएम और जिला हॉस्पिटल में इन दिनों रोजाना करीब 1200 सौ पेशेंट्स वायरल बुखार और डेंगू लक्षणों वाले पहुंच रहे हैं।

आउटडोर में लगी लंबी कतार
पीबीएम के मेडिसिन हॉस्पिटल में वायरल बुखार और डेंगू लक्षणों वाले पेशेंट्स की गुरुवार को लंबी कतारें लगी रही। मेडिकल कॉलेज प्रशासन और पीबीएम के अधीक्षक सहित अन्य चिकित्सक आई वार्ड के उद्घाटन समारोह में मशगूल थे, तब यहां जांच करवाने के लिए सैकड़ों पेशेंट्स डॉक्टर को दिखाने और पर्ची कटवाने में घंटों खड़े रहना पड़ा था।

खबरें और भी हैं...