पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बीकानेर में हैवानियत:नाबालिग से पड़ोसी करता था दुष्कर्म, बदनामी के डर से लड़की ने नहर में कूदकर जान दे दी

बीकानेर/छत्तरगढ़22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
खाजूवाला के एक चक में रहने वाली नाबालिग लड़की के पड़ोसी इमाम खां ने डरा-धमकाकर उसके साथ बार-बार दुष्कर्म किया। - Dainik Bhaskar
खाजूवाला के एक चक में रहने वाली नाबालिग लड़की के पड़ोसी इमाम खां ने डरा-धमकाकर उसके साथ बार-बार दुष्कर्म किया।
  • पिता ने दर्ज करवाया केस, आरोपी फरार
  • खाजूवाला सीओ अंजुम कायल करेंगी जांच

छत्तरगढ़ के एक चक में रहने वाली 17 साल की लड़की से पड़ोसी युवक ने दुष्कर्म किया। गांववालों को इसका पता चला तो लड़की ने बदनामी के डर से नहर में कूदकर अपनी जान दे दी। युवक फरार है जिसकी तलाश की जा रही है।

खाजूवाला के एक चक में रहने वाली नाबालिग लड़की के पड़ोसी इमाम खां ने डरा-धमकाकर उसके साथ बार-बार दुष्कर्म किया। नौ जुलाई की रात को भी इमाम उसे अपने साथ ले गया और दुष्कर्म किया। लड़की के परिजनों को इसका पता चला तो वे इमाम के घर उलाहना देने गए। आसपास के लोग इकट्‌ठा हो गए।

गांववालों को घटना का पता चल गया तो बदनामी के डर से 11 जुलाई को लड़की ने नहर में कूदकर आत्महत्या कर ली। इत्तला मिलने पर छत्तरगढ़ थाना पुलिस मौके पर पहुंची और लड़की के शव को अस्पताल ले जाया गया। 12 जुलाई को परिजन थाने पहुंचे और लड़की के पिता ने इमाम खां के खिलाफ दुष्कर्म और आत्महत्या के लिए मजबूर करने का केस दर्ज करवाया है जिसकी जांच सीओ खाजूवाला अंजुम कायल कर रही हैं। घटना के बाद से आरोपी फरार है। पुलिस ने उसके घर दबिश दी है और अन्य ठिकानों पर भी तलाश की जा रही है।

10 जुलाई को गांव में पंचायती हुई, लड़की ने उसके बाद कर ली आत्महत्या

लड़की के परिजनों ने इमाम के घरवालों को उलाहना दी तो 10 जुलाई को गांव के लोगों में पंचायती हुई। लड़की के पिता के अलावा नरसाराम मेघवाल, कालूसिंह, नरेन्द्रसिंह, कालूराम कुम्हार व आरोपी के पिता नजरू खां, कासम खां, हरून खां मौजूद थे। आरोपी पक्ष की ओर से माफीनामा भी दिया गया और कोई कार्रवाई नहीं करने का आग्रह किया। लड़की को इसका पता चल किया कि गांववालों तक बात पहुंच गई है। 11 जुलाई को सुबह वह घर से शोच जाने का कहकर निकली और ढाणी से कुछ दूरी पर नहर में कूदकर आत्महत्या कर ली। वह वापस नहीं लौटी तो परिजनों ने खोजबीन की। नहर किनारे उसकी चुन्नी, लोटा और चप्पल मिले तो शक हुआ। नहर में देखा तो उसका शव बरामद हो गया।

पैरोें के निशान से शक हुआ इमाम पर

नौ जुलाई की रात को इमाम ढाणी से लड़की को अपने साथ ले गया था। 10 जुलाई को सुबह लड़की के परिजनों को ढाणी और उसके आसपास पैरों के निशान मिले। परिजन निशान को देखते हुए इमाम के घर पहुंच गए और उस पर शक हुआ। बाद में लड़की ने अपने घरवालों को पूरी घटना बता दी। पड़ोसी होने के कारण इमाम का करीब सालभर से लड़की के घर आना-जाना था।

लड़की की शादी करनी थी, लड़के वाले देखने आए थे : नहर में कूदकर जान देने वाली लड़की की शादी की बात चल रही थी। परिजन तैयारियां कर रहे थे। लड़के वाले 10 जुलाई को सूरतगढ़ से उसे देखने भी आए थे। शाम को वे वापस लौट गए और घर जाकर जवाब देने के लिए कहा था। इसी दौरान लड़की के दुष्कर्म पर गांववालों में पंचायती चल रही थी।

पड़ोसी होने के कारण इमाम पर विश्वास किया और उसे घर आने दिया। उसके कारण बेटी की जान गई है। हमे न्याय और उसे दंड मिलना चाहिए।
-लड़की के पिता

लड़की के पिता की रिपोर्ट पर मुकदमा दर्ज किया गया है। उनके बयान लिए गए हैं। अन्य संबंधित लोगों से भी पूछताछ कर बयान लिए जाएंगे।
- अंजुम कायल, सीओ खाजूवाला