उपेक्षा का शिकार हुआ स्टेडियम:कस्बे का एक मात्र स्टेडियम हुआ प्रशासनिक उपेक्षा का शिकार; कैसे होंगे खेल आयोजन

श्रीडूंगरगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कस्बे के एकमात्र खेल स्टेडियम जो खेल आयोजनों का साक्षी रहा है। परंतु लगातार हो रही प्रशासनिक उपेक्षा के कारण अपनी बदहाली का आंसू बहा रहा है। बारिश के बाद तो इसके हालात इतने दयनीय हो जाते है कि यह किसी दलदल से कम नजर नहीं आता। खेल प्रतिभाओं को जहां सरकारें आगे लाने का हर प्रयास कर रही है वही इस खेल स्टेडियम की बदहाली के कारण श्रीडूंगरगढ़ क्षेत्र के खिलाड़ी कैसे अपनी क्षमताओं को निखार पाएंगे।

शिक्षा विभाग द्वारा श्रीडूंगरगढ़ क्षेत्र में जिला स्तरीय कई खेलों के आयोजनों की जिम्मेदारी श्रीडूंगरगढ़ क्षेत्र के विद्यालयों को दी गई है जिसमें 20 अक्टूबर से 23 अक्टूबर तक तहसील स्तरीय क्रिकेट प्रतियोगिता का आयोजन श्रीडूंगरगढ़ के इसी श्यामाप्रसाद मुखर्जी स्टेडियम में होना तय है। परंतु बारिश के कारण कीचड़ से अटे पड़े इस खेल के मैदान में कैसे खिलाड़ी अपनी क्षमताओं को दिखा पाएंगे।

इस कीचड़ के कारण यह मैदान अब मच्छरों की भरमार के कारण मौसमी बीमारियों और डेंगू के बढ़ते प्रकोप के कारण अति संवेदनशील है जिसके कारण खेल का यहां होना असंभव प्रतीत हो रहा है। ऐसे में प्रशासन की अनदेखी के कारण एक बहुत बड़ा क्रिकेट इवेंट कस्बे में होने से रह जाएगा। प्रशासन अगर अभी से जागरूकता दिखाए तो संभव है कि यह मैदान खिलाड़ियों की पदचाप से वंचित ना रहे और कस्बे के यह स्टेडियम पुनः खेलों से गुलजार हो सके।

श्यामाप्रसाद मुखर्जी स्टेडियम की हालत तो बदतर है। ऐसे में कैसे यहां खेल हो पाएगा। इस संबंध में प्रशासन को अवगत करवा दिया जाएगा, जिससे समय रहते खेल स्थान परिवर्तन हो सकता है।-आदूराम जाखड़, प्रिंसिपल, राउमावि श्रीडूंगरगढ़

खबरें और भी हैं...