निगम में कचरे का भ‌ष्ट तंत्र:ट्रैक्टर में पत्थर और रेत के कट्टे भर लाए, गड़बड़ी पकड़ी तो चालकों ने आधा घंटा तक जाम लगाया

बीकानेर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • बल्लभ गार्डन डंपिंग साइट पर मेयर का रियलिटी चैक

बल्लभ गार्डन डंपिंग साइट पर मेयर ने शनिवार को दूसरी बार रियलिटी चैक किया। सुबह कचरा लेकर आए ट्रैक्टरों की जांच की तो फिर गड़बड़ियां मिली। निगम की कार्रवाई से उकताए ट्रैक्टर चालकों ने जाम लगा दिया। करीब एक घण्टे तक वहां अफरा-तफरी का माहौल रहा।

मेयर सुशीला राजपुरोहित शनिवार सुबह 6.30 बजे डंपिंग साइट पहुंची और ट्रैक्टर चैक करने लगी। कुछ ट्रैक्टरों में कचरे की जगह रेत और पत्थर भरे तो किसी मे रेत से भरे कट्टे। कुछ में कचरा कम था। कुछ चालकों ने ट्रैक्टर वापस मोड़ लिए। निगम की कार्रवाई से उकताए चालकों ने जाम लगा दिया। इससे ओटो टिपर भी नहीं निकल सके। मेयर ने ठेकेदार की खिंचाई की तो आधे घंटे बाद जाम खोल दिया।

गौरतलब है कि निगम आयुक्त ने शुक्रवार को आदेश जारी कर ट्रैक्टरों की संख्या 80 के स्थान पर 40 कर दी था तथा एक ट्रिप बढ़ा दी थी। ट्रैक्टरों की पर्चियां काटने के लिए लंबे समय से कार्यरत पांच कर्मचारियों को हटाकर 9 अन्य कर्मचारियों को नियुक्त किया था। मेयर सुशीला राजपुरोहित शनिवार को बदली हुई व्यवस्था में ट्रैक्टरों से कचरा कलेक्शन और पर्ची काटने का सिस्टम देखने डंपिंग साइट पर गई थी।

भास्कर रिकॉल

ट्रैक्टरों में कचरा कम, फर्जी काटी जा रही थी पर्चियां : बल्लभ गार्डन डंपिंग साइट ट्रैक्टरों में कचरा कम आ रहा था। कुछ ट्रैक्टर खाली आ रहे थे। इसके बावजूद उनकी पर्चियां काटी जा रही थी। मेयर ने गुरुवार को निरीक्षण में यह गड़बड़ियां पकड़ी थी। उसके बाद निगम ने कचरा कलेक्शन के लिए जिम्मेदार ठेकेदार, स्वच्छता निरीक्षकों और जमादारों को नोटिस जारी किए। डंपिंग साइट पर ट्रैक्टरों के निरीक्षण की व्यवस्था में भी बदलाव किया।

80 ट्रैक्टरों का एक दिन का भुगतान 1 लाख 86 हजार रुपए ठेकेदार को किया जा रहा था : शहर में कचरा कलेक्शन के लिए निगम को ट्रैक्टर ट्रॉली और श्रमिक उपलब्ध कराने का टेंडर 8 करोड़ का था। लेकिन ठेकेदार फर्म को प्रति दिन प्रति ट्रिप 2333 दर पर टेंडर मिला है। इस हिसाब से उसे एक दिन में 80 ट्रैक्टरों की तीन ट्रिप का पेमेंट 1 लाख 86 हजार से ज्यादा का मिल रहा था। यानी एक साल का भुगतान करीब 6 करोड़ 70 लाख रुपए बनता है। ट्रैक्टर 40 चलेंगे तो भुगतान भी कम होगा। ठेका इस साल खत्म हो रहा है।

रजिस्टर में 7 दिन की एंट्री पर चालकों के साइन नहीं : डंपिंग साइट पर ट्रैक्टरों की ट्रिप का रिकॉर्ड जब्त कर लिया गया है। रजिस्टर में सात दिन के ट्रैक्टरों की ट्रिप की एंट्री तो है लेकिन उन पर चालकों से साइन नहीं है। आशंका है कि साइन बाद में कराए जाते हैं। इसमें जमकर फर्जीवाड़ा होता है।

डोर टू डोर कचरा कलेक्शन के कारण ट्रैक्टरों को शहर में कचरा नहीं मिल रहा है। चालक ट्रैक्टर या तो खाली ला रहे हैं या इनमें रेत और मलबा भर रहे हैं। निरीक्षण में काफी गड़बड़ियां मिली हैं, जिनकी जांच कराई जाएगी।
- सुशीला राजपुरोहित, मेयर

खबरें और भी हैं...