पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bikaner
  • To Help 40 Families Trapped In The Water Of Khudkhuda Nagar, The Corporation Sent 1 Pump Set, That Too Bad, The Officials Did Not Reach

निगम अधिकारियों की लापरवाही इन पर भारी:खुदखुदा नगर के पानी में फंसे 40 परिवारों की मदद के लिए निगम ने 1 पंप सेट भेजा वो भी खराब, अधिकारी नहीं पहुंचे

बीकानेर4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पम्प ठीक करते कर्मचारी। - Dainik Bhaskar
पम्प ठीक करते कर्मचारी।
  • बच्चों को दूध नहीं मिला, काम पर लोगों को रात बाहर ही बितानी पड़ी

‘घर के आगे दो दिन से पानी पड़ा है। बाहर निकलने के सभी रास्ते बंद हैं। दूध वाला भी सुबह नहीं आया। बच्चों को बिना दूध के रहना पड़ा। राशन भी लाना है। पता नहीं कब तक ऐसे ही हालात में रहना होगा।’

खुदखुदा नगर में रहने वाली संतोष मेहरा ने अपनी पीड़ा मोबाइल के जरिए बताई। वह दूर से अपने घर में खड़ी दिखाई तो दे रही हैं, लेकिन वहां तक पहुंचा नहीं जा सका। क्योंकि उसके घर के चारों ओर पानी भरा हुआ है। आने-जाने के सभी रास्ते कट चुके हैं। खुदखुदा नगर में ऐसे करीब 40 मकान हैं, जो दूसरे दिन भी पानी से घिरे रहे।

भास्कर में खुदखुदा नगर के हालात उजागर होने के बाद निगम ने सुबह एक पंप सेट पानी निकालने भेजा, लेकिन वह भी खराब हो गया। कर्मचारी दिनभर बैठे रहे। जबकि वहां रहने वाले लोग बार-बार आसमान में बादलों को देख परेशान हो रहे थे।

राकेश मेहरा शनिवार शाम मजदूरी से लौटा तो घर के चारों तरफ पानी भरा देख सकते में आ गया। उसे रात बाहर ही गुजारनी पड़ी। रविवार को भी वह अपने घर नहीं पहुंच पाया। मेहरा ने बताया कि प्रशासन से किसी प्रकार की मदद नहीं पहुंची है। शनिवार से लगातार निगम और यूआईटी में फोन कर रहे हैं, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही। अनिल सोनी ने बताया कि निगम आयुक्त ने जेईएन को भेजने की बात कही लेकिन शाम तक कोई नहीं आया।

पशुओं के लिए चारा और पानी का टैंकर नहीं पहुंचा
सोमालनाथआश्रम पर पशुओं के चारे और पानी का टैंकर दो दिन से नहीं पहुंचा। धोरे पर बने आश्रम में रहने वाले योगी मंगलनाथ ने बताया कि चारों तरफ गंदा पानी भरा हुआ है। आश्रम के दोनों रास्ते बंद हो गए हैं। पशुओं के लिए चारा मंगवाया था, लेकिन गाड़ी फंसने के डर से चालक ने मना कर दिया। प्रशासन से किसी प्रकार की मदद नहीं पहुंची है।

पाळ टूटने से ब्राह्मणों के मोहल्ले में पानी भर गया : सुजानदेसर चांदमल बाग क्षेत्र में शनिवार देर रात पानी के बहाव से पाळ टूट गई और ब्राह्मणों के मोहल्ले में फिर से पानी भर गया। नगर निगम ने जेसीबी मशीन से वापस पाळ बांधी। पानी फेंकने के लिए तीन पंप लगाए हैं, लेकिन सीवरेज चेम्बर ओवरफ्लो होने से पानी को बाहर नहीं निकाला जा सका। अब पानी को दूसरी तरह डायवर्ट किया गया है।

क्या है समस्या : सुजानदेसर के सोमालनाथ आश्रम के आस-पास गोचर भूमि है। बहाव क्षेत्र होने के कारण आधे शहर का गंदा पानी वहां इकट्‌ठा होता है। शनिवार को बारिश ज्यादा होने से पानी भी ज्यादा आ गया। इससे खुदखुदा नगर का नाला टूट गया और पानी बस्ती में भर गया। दरअसल कुछ लोगों ने वहां प्राइवेट कॉलोनियां काट रखी हैं। कम कीमत पर किश्तों में प्लॉट बेचे, तो अल्पआय वर्ग के लोगों ने खरीद लिए और मकान बनाकर रह रहे हैं।

क्या है समाधान : खुदखुदा नगर में भरने वाला गंदा पानी नाले के माध्यम से दूर छोड़ना ही समस्या का हल है। पहले चांदमल बाग का पानी भी यहीं आकर इकट्‌ठा होता था, लेकिन बद्री भैरव नाला डायवर्ट करने से पानी सोमालनाथ आश्रम तक नहीं जाता। लेकिन शहरी क्षेत्र से आ रहे पानी को रोकने के लिए प्रशासन को योजना बनानी होगी। इसके लिए अभी से प्रयास करने होंगे। गनीमत है कि इस बार बीकानेर में बड़ी बारिश नहीं हुई।

खबरें और भी हैं...