बीते चार साल में 44 लाख से ज्यादा वसूले:जारी है अवैध जिप्सम का ट्रांसपोटेशन, दाे दिन में साढ़े चार लाख वसूले

बीकानेरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
माइनिंग इंजीनियर विजिलेंस ललित मंगल की अगुवाई में साेमवार काे जामसर-नूरसर राेड पर चैकिंग की। - Dainik Bhaskar
माइनिंग इंजीनियर विजिलेंस ललित मंगल की अगुवाई में साेमवार काे जामसर-नूरसर राेड पर चैकिंग की।

बीकानेर में खनिज संपदा की लूट जारी है। अवैध ट्रांसपोटेशन की गिरफ्त में कुछ ही केस सामने आते हैं लेकिन दिन-रात अवैध काराेबार जारी है। खनिज विभाग की विजिलेंस टीम ने दाे दिन में अवैध ट्रांसपाेटेशन करने वालाें से साढ़े चार रुपए की वसूली की है। माइनिंग इंजीनियर विजिलेंस ललित मंगल की अगुवाई में साेमवार काे जामसर-नूरसर राेड पर चैकिंग की। दो ट्रकों में ई-रवन्ना में अंकित मात्रा से ज्यादा माल था।

इसी तरह खारा पीओपी इंडस्ट्री एरिया में एक ट्रक में ओवर लाेड माल हाेने से उनसे तीन लाख चार हजार की वसूली की। इससे एक दिन पहले दंताैर के पास एक ट्रक पकड़ा जिससे एक लाख 48 हजार की वसूली की। दो दिन में साढ़े चार लाख वसूलने के साथ बीते चार सालों में विजिलेंस टीम ने अब तक 44 लाख 48 हजार रुपए खनिज संपदा के अवैध काराेबार पकड़कर वसूले।

एमई ललित मंगल ने बताया कि विजिलेंस टीम राेज ऐसे इलाके चिन्हित करती है जहां से जिप्सम का अवैध ट्रांसपाेटेशन हाेता है। खबरियाें से मिली खबराें के आधार पर माैके पर कार्रवाई की जाती है।

हैरानी.. सिर्फ ट्रांसपाेटेशन पर कार्रवाई का हक

अमूमन विजिलेंस टीम काे कहीं भी छापा मार विभाग के अवैध कराेबार का हक हाेता है लेकिन माइनिंग विभाग में विजिलेंस की टीम सिर्फ अवैध ट्रांसपाेटेशन की कार्रवाई का हक है। माैके पर खनन पर कार्रवाई का हक नहीं है। ये अधिकार दूसरे अधिकारियाें काे है।

प्रदेश भर से इस तरह की शिकायत और सुझाव सरकार स्तर तक गए हैं और इसीलिए अब नीतिगत सुधार की प्रक्रिया भी शुरू हो गई है। विभाग कई नए दफ्तर खोलने और बंद करने की नीति तैयार कर रही है। कुछ अभियंताओं के अधिकारों में भी बदलाव करने की तैयारी है। मंत्रालय स्तर पर इसकी प्रक्रिया शुरू हो चुकी है।

खबरें और भी हैं...