पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बीबीएमबी की ना:खरीफ की बिजाई का पानी नहीं मिलेगा

बीकानेर6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

पश्चिमी राजस्थान के किसानों को इस साल नहर आधारित क्षेत्र में कपास समेत खरीफ की अन्य फसलों की बिजाई का माैका नहीं मिलेगा। क्याेंकि भाखड़ा व्यास मैनेजमेंट बाेर्ड ने साफ मना कर दिया कि इस बार पौंग डेम का जलस्तर बहुत कम है इसलिए सिंचाई का पानी देना मुश्किल होगा। 10 जून से राजस्थान काे सिर्फ पीने के लिए 4000 क्यूसेक पानी दिया जाएगा।

चूंकि 30 जून तक मानसून पंजाब, हिमाचल समेत कुछ राज्याें में पहुंचेगा जिसके बाद पानी की समीक्षा हाेगी और अच्छी आवक हुई ताे ही सिंचाई के पानी का निर्णय किया जाएगा। हालांकि इससे पहले बीबीएमबी 20 जून काे फिर से समीक्षा करेगा क्याेंकि मानसून तेजी से आगे बढ़ रहा है। चार जून पौंग डेम का जलस्तर 1296 फीट था। 30 जून तक डैम का जलस्तर 1975 फीट तक पहुंच जाएगा

इससे ज्यादा डेम काे खाली करना नामुमकिन हाेगा। किसी वजह से मानसून विलंब हुआ तो राजस्थान में पीने के पानी का संकट खड़ा हो जाएगा इसलिए सर्तकता के रूप में 30 जून तक सिंचाई के लिए पानी देना मुश्किल होगा। वर्चुअल मीटिंग ही इन दिनों चल रही हैं। हनुमानगढ़ जोन के मुख्य अभियंता इन मीटिंग में शामिल होते हैं।

मुख्य अभियंता विनोद मित्तल का कहना है कि अब मानसून पर सब कुछ निर्भर है। अगर मानसून समय पर आया और डेम में पानी आया तो बीबीएमबी सिंचाई के पानी पर विचार करेगी अन्यथा पीने का ही पानी चलेगा। पौग के साथ भाखड़ा डैम की स्थिति भी ठीक नहीं है। रणजीत सागर में अच्छी स्थिति है लेकिन उसका नियंत्रण पंजाब के पास है।

खबरें और भी हैं...