पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

11 साल में 3 बार जून में आया मानसून:वेलकम मानसून; नाेखा में दरिया बनी सड़कें, शहर में होता रहा इंतजार

बीकानेर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • नागौर के रास्ते बीकानेर जिले में एंट्री, नोखा, काेलायत, पूगल में बरसे मेघ

13 जुलाई काे मानसून ने दाेपहर में बीकानेर जिले में एंट्री मारी। शहर में मानसून में एंट्री सूखी रही लेकिन नाेखा, जसरासर, पांचू, काेलायत, खाजूवाला और दियातरा समेत कई इलाकाें काे तरबतर कर दिया। एंट्री से 16 घंटे पहले काेलायत के मगरा क्षेत्र में जाेरदार बारिश हुई। मगरे में 34, नाेखा में 45 और पूगल में 68 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई थी।

मंगलवार काे नागाैर की ओर से मानसून ने एंट्री की जिसके कारण नाेखा में झमाझम बारिश का दाैर डेढ़ घंटे तक चला जिससे पूरा इलाका तरबतर हाे गया। शहर में उमस का दाैर रात तक बना रहा। दाेपहर में बादल घिरे लेकिन शाम काे अचानक उत्तरी हवाएं तेज हाे गई जिससे उमस ताे कम हुई लेकिन बारिश के आसार कम हाे गए।

माैसम विभाग ने भी मंगलवार काे पूरे प्रदेश में मानसून के आने का आधिकारिक एलान कर दिया। मानसून के लिहाज से सबसे अंतिम बीकाेनर काे काेना मानते हैं। यहां मानसून आते ही पूरे देश में मानसून का एलान हाे गया। बीकानेर में शाम छह बजे आंधी आई जाे पलाना, गजनेर तक पहुंची।

हालांकि साेमवार की रात तक 12.3 मिमीमीटर बारिश हुई थी लेकिन मानसून की एंट्री बीकानेर शहर में सूखी रही लेकिन मानसून सक्रिय है इसलिए बारिश के आसार बने हुए हैं। उम्मीद है कि गांव की तरह शहर पर भी बादल मेहरबान हाेंगे। इस बीच मंगलवार काे अधिकतम तापमान 39.3 डिग्री और न्यूनतम 26.1 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया।

मानसून के आते ही हाेगी खरीफ की बिजाई : मंगलवार काे मानसून की एंट्री के साथ ही बारानी क्षेत्र में बिजाई के आसार बन गए। नाेखा, काेलायत समेत कई इलाकाें में हुई बारिश के बाद किसान अब खरीफ की बिजाई करेगा। खासकर बाजरा, मूंग और माेठ की बिजाई हाेगी। हरे चारे की भी बिजाई हाेगी। किसान मानसून का इंतजार ही कर रहा था क्याेंकि खरीफ की बिजाई जून में ही शुरू हाे जाती है।

मानसून पूरे प्रदेश में पहुंच चुका है। इसकी अधिकृत घाेषणा मंगलवार की दाेपहर बीकानेर में पहुंचते ही कर दी गई। बीकानेर के साथ पूरे देश में भी मानसून पहुंच चुका है। मानसून अभी सक्रिय है और आगे तीन-चार दिन बारिश का दाैर रह सकता है।
राधेश्याम शर्मा, निदेशक माैसम विभाग जयपुर

खबरें और भी हैं...