पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

भास्कर इपैक्ट:कोविड हॉस्पिटल में सीनियर डॉक्टर मरीजों को रोज देखने आ रहे हैं या नहीं, भेजनी होगी सीसीटीवी फुटेज

बीकानेर24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

पीबीएम एमसीएच कोविड हॉस्पिटल में सीनियर डाॅक्टर दिन में कितनी बार राउंड पर आते हैं। वे कोविड मरीजों को संभाल रहे हैं या नहीं। कितनी देर मरीजों के बीच रहते हैं। इसकी निगरानी अब सीसीटीवी कैमरे से शुरू कर दी गई है। मेडिकल हैल्थ डायरेक्ट्रेट को अब ये फुटेज रोज भेजे जाएंगे।

कोविड हॉस्पिटल के हालात दैनिक भास्कर में उजागर होने के बाद राज्य सरकार पीबीएम में जांच के लिए टीम भेजी थी। मेडिकल हैल्थ डायरेक्ट्रेट के इस दल अपनी रिपोर्ट सरकार को सौंप दी है। उसके बाद कोविड हॉस्पिटल में सीनियर और जूनियर डॉक्टर्स की ड्यूटी को लेकर रोस्टर तय कर दिया गया है।

चेस्ट फिजिशियन डॉ. रवि चांडक की नियुक्ति कोविड हॉस्पिटल में कर दी गई है। हॉस्पिटल के वार रूम में एक रजिस्टर रखा गया है, जिसमें ऑन ड्यूटी डॉक्टर के आने-जाने का समय, नाम, पद दर्ज किया जाएगा। इसकी मॉनिटरिंग के लिए तीन सीनियर डॉक्टर लगाए गए हैं। इन्हें रोजाना रजिस्टर में हाजिरी का सत्यापन करना होगा। इसकी रिपोर्ट मेडिकल कॉलेज प्रिंसिपल के माध्यम से राज्य सरकार को भेजी जाएगी।

पांचों आईसीयू में कब कौन सा डॉक्टर आता है, इस पर भी नजर : एमसीएच कोविड हॉस्पिटल में पांच आईसीयू हैं, जहां करीब 84 गंभीर मरीज भर्ती हैं। रोजाना इन्हीं में से छह-सात मरीजों की मौत हो रही है। आईसीयू में भर्ती मरीजों को कब कौन सा डॉक्टर संभाल रहा है, इसकी भी मॉनिटरिंग शुरू की गई है।

दरअसल मेडिसिन, टीबी एंड चेस्ट, एनेस्थीसिया, पीडियाट्रिक विभाग से कब कौन सा डॉक्टर राउंड पर आ रहा है, इसका पता नहीं चल पाता था। इनका कोई रोस्टर भी नहीं बनाया गया था। अब तीन सीनियर डॉक्टरों की टीम आईसीयू में डॉक्टरों के राउंड पर भी नजर रखेगी। इससे यह पता रहेगा कि किस विभाग के कौन सीनियर डॉक्टर या एचओडी कितनी बार आईसीयू में गए। कहीं हाजिरी लगाकर वापस तो नहीं लौट गए।

टोटल रिकॉल: दैनिक भास्कर टीम ने पीपीई किट पहनकर तीन घंटे कोविड हॉस्पिटल में रहकर अव्यवस्थाएं उजागर की थी। मरीजों के अटेंडेंट की शिकायत थी कि सीनियर डॉक्टर राउंड पर नहीं आते। जूनियर डॉक्टर चैंबर में ही बैठे रहते हैं। मरीज के ग्लूकोज खत्म हो जाए तो 10 बार बुलाने पर भी नर्सिंग कर्मी ड्रिप हटाने नहीं आता।

मामला सीएमओ तक पहुंचा तो सरकार ने चिकित्सा शिक्षा निदेशालय से 19 मई को जांच दल भेजा। अतिरिक्त निदेशक (प्रशासन) गौरव चतुर्वेदी सहित तीन सदस्यीय दल ने कोविड हाॅस्पिटल के निरीक्षण में भास्कर की रिपोर्ट की पुष्टि की। टीम ने व्यवस्थाओं में सुधार के निर्देश देते हुए सीनियर डॉक्टर्स की मॉनिटरिंग की नई व्यवस्था लागू की।

निरीक्षण के बाद ये हुआ सुधार
1. सीनियर डॉक्टर पीपीई किट पहनकर राउंड पर आने लगे हैं। वार रूम में सीसीटीवी कैमरे के सामने खड़े होकर रजिस्टर में साइन भी करने लगे हैं।
2. पीपीई किट पर डॉक्टर का नाम और पद अंकित होता है।
3. बेड हैड टिकट पर लिख रहे मरीज की स्थिति।

बीकानेर के पीबीएम कोविड हॉस्पिटल का निरीक्षण किया था। उसकी रिपोर्ट अपने सुझाव सहित सरकार को सौंप दी है। कोविड हॉस्पिटल की मॉनिटरिंग को लेकर कुछ व्यवस्थाएं लागू करने के लिए कहा गया है।-गौरव चतुर्वेदी, अतिरिक्त निदेशक (प्रशासन), चिकित्सा शिक्षा निदेशालय

एमसीएच विंग में व्यवस्थाएं काफी बेहतर हैं। सभी डॉक्टरों के बीच अच्छा तालमेल है। प्रमुख विभागों के डॉक्टर्स नियमित राउंड ले रहे हैं। मैं खुद इसकी मॉनिटरिंग कर रहा हूं। मरीज भी पहले से काफी कम हुए हैं।
-डॉ. मुकेश आर्य, प्रिंसिपल, मेडिकल कॉलेज

खबरें और भी हैं...