अपनों से मिला विनोद:बिछड़े भाई को देखकर भर आईं आखें, तीन महीने पहले घर से निकल गया था

नोखा18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

अपनों से बिछड़कर तीन महीने से नोखा के अपना घर आश्रम में रहने वाले विनोद कुशवाहा के लिए आज का दिन खुशियों की सौगात लेकर आया और आश्रम पदाधिकारियों की बदौलत उसे वापस अपना घर-परिवार मिल गया। उसे लेने के लिए पहुंचे उसके भाई ने विनोद को सकुशल देखा, तो उसकी आंखें भर आई और वह अपने भाई को साथ लेकर खुशी के साथ गांव रवाना हुआ। कार्यालय प्रभारी विनोद पंचारिया ने बताया कि एक अगस्त को कोटा आश्रम से विनोद को नोखा गांव अपना घर आश्रम में शिफ्ट किया गया था।

गांव पहुंचा विनोद
यहां उसका इलाज कराने पर स्वास्थ्य में सुधार हुआ, तो उसके परिवार के बारे में जानकारी जुटाकर उनको सूचना दी गई। विनोद के घरवालों ने बताया कि उसकी मानसिक हालत ठीक नहीं होने के कारण वह तीन माह पहले बिना बताए घर से निकल गया था। उसकी काफी तलाश करने पर भी कोई जानकारी नहीं मिली। दो दिन पहले आश्रम कर्मचारियों ने फोन कर उनको विनोद के सकुशल होने की जानकारी दी। इस पर उसका भाई विनोद को लेने के लिए नोखा आश्रम में पहुंचा। यहां दोनों भाई एक-दूसरे के गले मिले और बाद में आश्रम की प्रक्रिया पूरी कर अपने गांव रवाना हुए।

खबरें और भी हैं...