नोखा स्थापना दिवस:कवि सम्मेलन का हुआ आयोजन, सैनिकों पर सुनाई कविता ने लोगों में भरा जोश

नोखा11 दिन पहले

नोखा स्थापना दिवस की 95वीं जयंती पर नोखा जन सेवा समिति द्वारा विभिन्न कार्यक्रमों की श्रृंखला में शनिवार को कवि सम्मेलन का आयोजन मरोठी चौक में किया गया। जहां हास्य और वीर रस के कवियों और कवयित्री ने समां बांधा।

यूक्रेन रूस में भारत की भूमिका पर बटोरी तालियां

इस दौरान उज्जैन से आए वीर रस के कवि राहुल शर्मा ने यूक्रेन व रूस के युद्ध में भारत के तिरंगे को देखकर युद्ध रोकने की बात अपनी ओजस्वी कविता में दमदारी के साथ रखी। वहीं बेटियों की रक्षा, देश की रक्षा, अभिनंदन सिंह का भारत में आगमन, पुलवामा अटेक, देश की रक्षा में लगे सैनिकों की देश भक्ति और राजनीतिक व्यंग्यों पर कवियों ने बहुत हंसाया।

जिसमें देश के ख्यातनाम कवि आए। मध्यप्रदेश से मंच संचालक व व्यग्यकार गोविंद राठी, हास्य रस के दीपक पारीक, नोएडा से वीर रस के राष्ट्रीय कवि अमित शर्मा, उज्जैन से ओज के कवि राहुल शर्मा, देश के विख्यात परोड़ी कार संपत सुरीला, हास्य के बहु प्रसिद्ध हस्ताक्षर सोहन दान भुतास, हास्य के टीवी कलाकार अर्जुन अल्हड़, श्रृंगार रस के दिल्ली से नमिता नमन, सूत्रधार कवि व गीतकार आनंद रतनू ने देर रात तक अपनी व्यंग्यों और वीर रस की कविताओं से समां बाांधा।

ये रहे मौजूद

कार्यक्रम में नोखा विधायक बिहारीलाल बिश्नोई, जिलाध्यक्ष ताराचंद सारस्वत, पूर्व संसदीय सचिव डॉ. विश्वनाथ मेघवाल, देशनोक पालिका अध्यक्ष ओमप्रकाश मूंधड़ा, समाजसेवी मूलचंद गट्टाणी, समाजसेवी नेमचंद घीया, रामस्वरूप धायल, रामरतन तर्ड़ मौजूद रहे।

अतिथियों का किया स्वागत सम्मान

जन सेवा समिति के अध्यक्ष महेंद्र संचेती, सचिव विनोद बरडिया, राजू मालपानी, पार्षद राधेश्याम लखोटिया, गणपत सोनी, प्रिंस शर्मा, धर्मेश बैद, प्रिंस शर्मा, सुनील जाखड़, श्रीकृष्ण शर्मा, अभय संचेती, सुरेश गहलोत, गणेश चौधरी ने व्यवस्था संभाली। नोखा जन सेवा समिति ने अतिथियों का स्वागत सम्मान किया। इस अवसर पर भारी संख्या में कस्बे वासी उपस्थित रहे।

खबरें और भी हैं...