राहत की खबर:उतराना के 1100 परिवारों को मिलेगा मेज नदी का पानी

लाखेरी24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • डेढ़ करोड़ रुपए एसीसी प्रबंधन सीएसआर एक्टिविटी में खर्च करेगा, 2 हजार बीघा में होगी सिंचाई

लंबे समय से पानी के लिहाज से डार्क जोन में रहने वाले उतराना गांव में मेज नदी के पानी को लेकर राहत की खबर है। नदी के पानी को लिफ्ट सिस्टम से गांव तक लाने की तैयारी शुरू हुई है। नदी के पानी से 2 हजार बीघा भूमि में सिंचाई हो सकेगी। साथ ही 1100 परिवारों को पीने का शुद्ध पानी भी मिल सकेगा। इसके लिए आरओ प्लांट लगाया जाएगा। एसीसी सीएसआर एक्टिविटी के तहत मेज नदी से लिफ्ट द्वारा पानी लाने की योजना को साकार करने जा रही है। इस योजना पर डेढ़ करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे।

योजना पर डेढ़ करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे, गांवों में सरफेस वाटर की कमी के चलते है पेयजल की समस्या

उतराना पंचायत के गांवों में सरफेस वाटर की कमी के चलते पेयजल की समस्या है। सिंचाई के स्थाई संसाधन नहीं होने से खेत खाली रह जाते हैं। ग्रामीण लंबे समय से लिफ्ट द्वारा नदी के पानी की मांग करते आ रहे हैं। योजना पर काम शुरू हो गया है, नदी से पाइप लाइन के जरिये पानी गांव और खेतों तक पहुंचेगा। शुभारंभ पर सरपंच बद्री बाई, एसीसी के सीएसआर प्रबंधक अखिलेश गुप्ता, रामबाबू शर्मा सहित ग्रामीण मौजूद रहे।

ऐसे आएगा पंचायत में मेज नदी का पानी: एसीसी लगभग डेढ़ करोड़ रुपए लगाएगी। 8 किमी पाइप लाइन का जाल बिछेगा। मुख्य रूप से नदी से गांव तक 4 किमी मेन राइजिंग डाली जाएगी। खेतों की सिंचाई के लिए अलग-अलग दिशा में ब्रांच लाइन डाली जाएगी। मेन लाइन से लगभग 4 किमी तक ब्रांच लाइन डालेंगे, ताकि खेतों के हर हिस्से तक पानी पहुंचे। नदी पर पानी लिफ्टिंग सिस्टम विकसित होगा। इसमें दो उच्च क्षमता के वाटर पंप लगेंगे। बिजली कनेक्शन स्थानीय स्तर पर लेंगे। लिफ्ट सिस्टम को सरकारी प्रावधानों के अनुरूप तैयार किया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...