आक्रोश:कापरेन में पुलिस के खिलाफ प्रदर्शन, भाजपा विधायक व जिलाध्यक्ष पानी की टंकी पर चढ़े

बूंदीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कापरेन. पानी की टंकी पर समर्थकों के साथ विधायक चंद्रकांता। - Dainik Bhaskar
कापरेन. पानी की टंकी पर समर्थकों के साथ विधायक चंद्रकांता।
  • जिले में अपराधों से नाराजगी, 10 घंटे बाद रात 11 बजे के बाद टंकी से उतरे

कापरेन जिलेभर में लगातार हो रही चोरी-लूट की वारदातों से लोगों में पुलिस प्रशासन के खिलाफ आक्रोश है। नैनवां में वृद्धा उच्छबी बाई का एक पैर काटकर चांदी के जेवर लूटने सहित कई वारदातें हो चुकी हैं। कापरेन में दंपती को बंधक बनाकर लाखों की लूट और चोरियों की घटनाओं पर पुलिस के खिलाफ गुस्सा है। विधायक चंद्रकांता मेघवाल, भाजपा जिलाध्यक्ष छीतरलाल राणा समेत बड़ी संख्या में लोग पानी की टंकी पर चढ़ गए। वे जिला कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक को मौके पर बुलाने की मांग कर रहे थे। टंकी से लेकर नीचे धरनास्थल तक पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी हुई। रात 11 बजे तक प्रदर्शन जारी था। रविवार सुबह 10 बजे शहर के शक्ति चौराहे पर शहरवासी एकत्रित हुए। वहां से पुलिस प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी कर थाने के सामने प्रदर्शन किया।

पुलिस ने कार्रवाई के लिए 7 दिन का समय मांगा

25 लाख की लूट के शिकार दंपती किरण-दीपक शर्मा के साथ पानी की टंकी पर चढ़ी विधायक रात 11 बजे उतरी। समझाइश का दौर चलता रहा और पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी हुई। उधर, रात में तीन पुलिसकर्मियों को सस्पेंड करने की सहमति बनी। इस पर रात 11 बजे के बाद सभी पानी की टंकी से नीचे उतरे। संयुक्त व्यापार संघ ने सार्वजनिक मुनादी करवाकर सोमवार को कापरेन बंद का निर्णय लिया था, लेकिन सहमति बनने के बाद बंद को स्थगित कर दिया। पुलिस ने 7 दिन का समय मांगा है।

3 पुलिसकर्मियों के निलंबन पर बनी सहमति सोमवार को कापरेन बंद का निर्णय स्थगित

ऐसे चला घटनाक्रम : गुस्साए लोग थाना स्टाफ को निलंबित करने की मांग को लेकर धरना देकर बैठ गए। धरने पर बैठे प्रदर्शनकारियों ने क्षेत्र में बढ़ती चोरी व लूट की घटनाओं को लेकर पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठाए। केपाटन डीएसपी अंकित जैन ने प्रदर्शनकारियों से समझाइश की। उन्होंने कहा कि पुलिस चोरी की वारदातों का खुलासा करने में लगी हुई है। चोरों की तलाश में स्पेशल टीम आउट ऑफ स्टेट है। डीएसपी ने जल्द ही अपराधियों को गिरफ्तार कर चोरियों का खुलासा करने का आश्वासन दिया, लेकिन प्रदर्शनकारी मानने को तैयार नहीं हुए।
तीन घंटे इंतजार कर चढ़े टंकी पर: कस्बेवासी सुबह 10 बजे मौके पर जिला कलेक्टर व एसपी को बुलाने की मांग को लेकर 3 घंटे का अल्टीमेटम दिया। दोपहर 1 बजे तक कोई अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचा। इस पर विधायक चंद्रकांता मेघवाल व भाजपा जिलाध्यक्ष छीतरलाल राणा सहित अन्य लोग पानी की टंकी पर चढ़ गए। वहां से उन्हें उतारने के लिए बूंदी से एएसपी किशोरी लाल मीणा, केपाटन डीएसपी, एसडीएम मौके पर पहुंचे, लेकिन शाम साढ़े 5 बजे तक प्रदर्शन जारी रहा।

खबरें और भी हैं...