अज्ञात कारणों से बाड़े में लगी आग:30 बीघा खेतों में बोई मक्का-मूंगफली फसलें जलकर हुई राख, 5 लाख रुपए का हुआ नुकसान, सूचना के 1 घंटे बाद पहुंची फायर ब्रिगेड

बेगूंएक महीने पहले

बेगूं में दौलतपुरा पंचायत के गांव हरिपुरा में गुरुवार रात 9 बजे अज्ञात कारणों से लगी 3 बाड़ों में आग से किसानों को करीब 5 लाख रुपए का नुकसान हुआ है। फायर ब्रिगेड और ग्रामीणों की सहायता से आग पर काबू पाया गया। आग से गांव में अफरातफरी मच गई। मौके पर पहुंची पुलिस आग के कारणों का पता लगाने में जुटी हुई है।

सूचना के 1 घंटे बाद पहुंची फायर ब्रिगेड

गांव हरिपुरा के रहने वाले मांगी लाल, मोहन लाल पुत्र प्यारचंद धाकड़, गोपाल पुत्र मांगी लाल धाकड़ के बाड़ों में आग लगी। करीब 100 मीटर दूर मकान निर्माण का काम चल रहा था। छत पर मौजूद मजदूरों ने बाड़े में आग धधकती देखी तो ग्रामीणों को बताया। तीनों किसानों के बाड़े साथ साथ होने से आग फैल गई। परिजनों ने आग बुझाने के लिए बेगूं नपा की फायर ब्रिगेड के लिए फोन किया। लेकिन नपा की फायर ब्रिगेड खराब बताई। फिर 15 किमी दूर माडना स्थित नितिन स्पिनर फैक्ट्री से फायर ब्रिगेड पहुंचने में 1घंटा लगा। फायर ब्रिगेड से आग पर काबू पाया गया। अन्यथा आग पूरे गांव के बाड़ों में फैल जाती।

आग लगने से किसानों की दीपावली काली

तीनों किसानों के खेतों में इस बार अतिवृष्टि से फसलें गल जाने से उपज आधी रह गई। जो बची आग से राख हो गई। धन तेरस के 1 दिन पहले आग से मक्का, मूंगफली की फसलें और चारा जल गया। नुकसान से इन किसानों की दीपावली काली हो गई।

मवेशियों के लिए घास तक नहीं बची

आग से तीनों किसानों के बाड़ों में रखी 30 ट्रोली मक्का की फसल, मूंगफली की फसल और भूसा,सूखी घास सब जल गए। जेसीबी मशीन से बाडों में पड़ी फसल को बाहर निकाला जा रहा था। मक्का की कडप, मूंगफली का भूसा और सूखा चारा आग में जल जाने से किसानों को अपने मवेशियों को खिलाने के लिए अब चारा भी खरीदना पड़ेगा।

खबरें और भी हैं...