निलिया महादेव मंदिर में मिला शव:ट्री गार्ड से बंधा मिला दोस्त, मुंह से निकल रहा था खून

चित्तौड़गढ़13 दिन पहले
शव मिलने के बाद FSL की टीम सबूत जुटाते हुए।

अपने दोस्त के साथ निलिया महादेव में आए एक युवक की मौत हो गई। उसके पास मानसिक रूप से कमजोर दोस्त ट्री गार्ड से बंधा हुआ मिला। सुबह जब पुजारी मंदिर पहुंचा तो शव देखकर घबरा गया और पुलिस को सूचना दी। चित्तौड़गढ़ के गंगरार डिप्टी सीताराम, बस्सी थानाधिकारी गणपत सिंह मय जाब्ता मौके पर पहुंचे। भीलवाड़ा से स्पेशल टीम और डॉग स्क्वाड को मौके पर बुलाया।थानाधिकारी गणपत सिंह ने बताया कि बस्सी थाना क्षेत्र के बल्दरखा स्थित निलिया महादेव मंदिर के चबूतरे पर एक लाश के पड़े होने की सूचना मिली। मौके पर जाकर देखा तो शव के मुंह से खून निकल रहा था। हत्या के संदेह पर मौके पर FSL टीम बुलाई गई और डॉग स्क्वायड को भी बुलाया गया। थानाधिकारी ने बताया कि युवक के पास कपड़े से भरी एक थैली, मोबाइल, चार्जर और जरूरी सामान रखे हुए थे। मोबाइल में लास्ट नम्बर पर फ़ोन किया तो मृतक की पहचान हिरण मंगरी, उदयपुर निवासी राज सिंह सरदार (30) के रूप में हुई। परिवार जनों को मौके पर बुलाया और मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम करवाया गया।

उदयपुर सेंट्रल जेल में हुई थी दोस्त से मुलाकात
शव के पास ही एक ट्री गार्ड से मानसिक रूप से कमजोर एक व्यक्ति लोहे के जंजीर से बंधा हुआ था। मौके पर पहुंचे परिजनों ने पुलिस को बताया कि मंदबुद्धि व्यक्ति का नाम बड़गांव निवासी भैरूलाल जाट (38) है। परिजनों ने बताया कि दोनों कुछ साल पहले जेल में बंद रहे। उस दौरान दोनों की दोस्ती हुई थी और 3 साल उदयपुर सेंट्रल जेल में रहे थे। किसी कारण से भैरू की मानसिक स्थिति बिगड़ गई है। जिसके बाद वो अलग-अलग देव स्थान पर अपने दोस्त को ठीक करवाने के लिए ले जाता है। पिछले दो महीने से बेगूं थाना क्षेत्र के बानोड़ा बालाजी मंदिर परिसर में रह रहे थे। दो दिन पहले पत्थरबाजी करने पर परेशान ग्रामीण और पुजारियों ने भगा दिया था। फिर किसी ने राजसिंह को बताया कि निलिया महादेव में रहने पर ठीक हो सकता है। इसपर बीती रात राजसिंह अपने दोस्त के आ गया। सुबह पुजारी ने राजसिंह को मृत पाया। वहीं, परिजनों का कहना था कि भैरू सिर्फ राजसिंह की बात मानता है।

मृतक शराब पीने का था आदी
परिजनों ने बताया कि राजसिंह शराब पीने का आदी था। लेकिन जब से देवस्थान पर अपने दोस्त को लेकर आया तब से शराब को हाथ भी नहीं लगाया। वहीं डॉक्टर ने पोस्टमॉर्टम के बाद बताया कि शराब ज्यादा पीने से उसके लंग्स पूरी तरह खराब हो चुके थे। उसके लंग्स में भी खून भरा हुआ था। पुलिस ने मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम करवाने के बाद परिजनों को शव सौंप दिया। भैरू के भी घर वालों को बुलाया गया और परिजनों को सौंप दिया।