लोक अदालत:1534 प्रकरणों में हुआ राजीनामा से निस्तारण, पांच बैंचों का किया गया था गठन

निम्बाहेड़ा13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

ताल्लुका निंबाहेड़ा स्थित न्यायालयों के लिए शनिवार को राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया गया। लोक अदालत को सफल बनाने के लिए अधिक से अधिक प्रकरणों के निस्तारण हेतु कुल पांच बैंचों का गठन का किया गया। बैंच के सदस्यों द्वारा अधिक से अधिक प्रकरणों में समझाइश कराकर राजीनामा से निस्तारित कराया।

बैंच संख्या 1 के अध्यक्ष एवं अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश संख्या 2 निंबाहेड़ा डॉ. प्रभात अग्रवाल द्वारा राजीनामा योग्य सभी प्रकार के दीवानी प्रकरण, राजीनामा योग्य फौजदारी प्रकरण, चैक अनादरण, बैंक संबंधी मामले, पारिवारिक प्रकरण, मोटर दुर्घटना क्लेम से संबंधित मामले आदि 19 प्रकरणों का राजीनामा से निस्तारण कर कुल 389803 रुपए की राशि का अवार्ड पारित किया गया।

बैंच संख्या 2 के अध्यक्ष एवं ताल्लुका विधिक सेवा समिति निंबाहेड़ा के अध्यक्ष तथा अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश संख्या 1 निंबाहेड़ा वीरेन्द्रप्रतापसिंह द्वारा राजीनामा योग्य सभी प्रकार के दीवानी प्रकरण, राजीनामा योग्य फौजदारी प्रकरण, चैक अनादरण, बैंक संबंधी मामले, पारिवारिक प्रकरण, मोटर दुर्घटना क्लेम से संबंधित मामले, प्रीलिटिगेशन प्रकरण आदि 865 प्रकरणों का राजीनामा से निस्तारण कर कुल 18136783 रूपए की राशि का अवार्ड पारित किया गया।

बैंच संख्या 3 के अध्यक्ष विकास मारग अति. मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट संख्या 2 निंबाहेड़ा द्वारा 363 प्रकरणों का राजीनामा से निस्तारण कर 1270000 रुपए का अवार्ड पारित किया। बैंच संख्या 4 के अध्यक्ष मनीषकुमार जोशी अति. मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट संख्या 1 निंबाहेड़ा द्वारा न्यायालय के 118 प्रकरणों का निस्तारण कर 3871849 रुपए का अवार्ड पारित किया तथा तहसीलदार एवं बैंच के सदस्य गोपाल बंजारा के सहयोग से राजस्व के प्रकरणों को का राजीनामे से निस्तारण कर किया गया।

बैंच संख्या 5 की अध्यक्ष रेणु मोटवानी न्यायिक मजिस्ट्रेट निंबाहेड़ा ने 169 प्रकरणों में राजीनामा से निस्तारण कर 433000 रुपए का अवार्ड पारित किया। इस प्रकार कुल पांच बैंचों का कुल 1534 प्रकरणों में राजीनामें से निस्तारण कर कुल दो करोड़ इगतालीस लाख एक हजार चार सो पेंतीस रूपए की राशि का अवार्ड पारित किया गया। इसमें पांच साल से अधिक पुराने 112 प्रकरणों तथा दस साल से अधिक पुराने 10 प्रकरणों का राजीनामा से निस्तारण किया गया।

खबरें और भी हैं...