चूरू में गर्मी ने 5 साल का रिकॉर्ड तोड़ा:47.5 डिग्री पहुंचा पारा, सड़कों पर करवाया पानी का छिड़काव

चूरू13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
शहर की सड़कों पर पानी का छिड़काव करती नगर परिषद की फायर बिग्रेड। - Dainik Bhaskar
शहर की सड़कों पर पानी का छिड़काव करती नगर परिषद की फायर बिग्रेड।

जिले में आग बरसाने वाली गर्मी का सितम शनिवार को भी रहा। भीषण गर्मी और लू के बीच शनिवार को दिन का तापमान 47.5 डिग्री पर पहुंच गया। दूसरे दिन भी चूरू जिला गर्मी के रेड अलर्ट की गिरफ्त में रहा। माैसम विभाग ने 15 मई तक चूरू जिले में रेड अलर्ट जारी कर रखा है। पिछले पांच वर्षों में 14 मई इस बार गर्म रहा। 2021 को 40.4, 2020 को 42.7, 2019 को 39.1 एवं 2018 को 14 मई को 43.7 डिग्री तापमान रहा। शनिवार को गर्मी का आलम था कि सुबह 9 बजे के बाद बाहर निकलते हुए लोग डरने लगे हैं।

शनिवार को सुबह 11.30 बजे ही चूरू 44.4 डिग्री पर तपने लगा। दोपहर 2.30 बजे तक 47 डिग्री गर्म हवाएं चलने लगी। सात दिनों में दिन का तापमान 2.5 तक बढ़ गया है। 8 मई को अधिकतम तापमान 45 डिग्री था, जो अब 47.5 पर पहुंच गया है। हालात ये हो गए कि नगर परिषद को शहर की मुख्य सड़कों पर पानी का छिड़काव करवाना पड़ा। मौसम विभाग के अनुसार शनिवार को अधिकतम 47.5 एवं न्यूनतम तापमान 26.4 डिग्री रहा, जबकि इससे पहले शुक्रवार को क्रमश : 47.1 एवं 26.0 था। बतादें कि अभी नौतपा शुरू नहीं हुआ, इसके बाद भी गर्मी नौतपे सी पड़ने लगी है।

14 मई को गर्मी में प्रदेश के टॉप 6 जिलों में चूरू शामिल
चूरू गर्मी में प्रदेश के टॉप 6 जिलों में शामिल है। सर्वाधिक 48.5 डिग्री तापमान धौलपुर में दर्ज किया गया। प्रदेश में श्रीगंगानगर में 48.3, बीकानेर में 48.2, हनुमानगढ़ में 47.8 व करौली में 47.9 डिग्री तापमान दर्ज किया गया, जबकि चूरू में 47.5 डिग्री तापमान दर्ज हुआ।

डीबीएच में पिछले साल से आउटडोर 250+ बढ़ा
पिछले साल की तुलना में इस बार डीबीएच में गर्मीजनित बीमारी के मरीजों का आउटडोर 250 से ज्यादा बढ़ गया है। पिछले साल 250 से 300 मरीज थे, जो अब 550 से 600 तक रोज के हो गए हैं।
सात दिन में चूरू में दिन का तापमान 2.5 डिग्री बढ़ गया। 8 मई को 45 डिग्री था जो 14 मई को 47.5 डिग्री हो गया।

1. एंटी साइक्लोन- इस बार गर्मी बहुत जल्दी शुरू हुई, मार्च में ही पारा 43 से 44 डिग्री तक पहुंच गया था, क्योंकि सामान्य तौर पर मार्च के अंत में बनने वाला एंटी-साइक्लोन इस बार 1 महीने जल्दी बना। इससे रेगिस्तान और पाकिस्तान से गर्म हवा आनी शुरू हो गई हैं। 2. लंबा साइक्लोन-इस साल हीट वेव का एक साइक्लोन ज्यादा लंबा चल रहा। इस वजह से तापमान बढ़ रहा है। अप्रैल में 45 डिग्री तक पारा पहुंच गया था। अप्रैल में भी अधिकांश दिन लू चली। 3. बारिश नहीं होना-सर्दी खत्म होने के बाद बारिश होती है, जिससे तापमान बैलेंस हो जाता है, लेकिन इस बार ऐसा नहीं हुआ। जिले के अधिकांश हिस्सों में भीषण गर्मी पड़ने के बाद भी बारिश नहीं हुई। मई में अब पारा 47.5 डिग्री तक पहुंच गया।

30-40 किमी प्रति घंटे की स्पीड से चलेगी आंधी
जयपुर मौसम केंद्र के निदेशक राधेश्याम शर्मा का कहना है कि 15-16 मई को तेज हवाएं चलने से मौसम में बदलाव होगा। तापमान दो डिग्री तक गिरेगा। हालांकि 15 मई को चूरू में गर्मी का रेड अलर्ट रहेगा। फिलहाल प. राजस्थान के ऊपर वायुमंडलीय स्तर में बने प्रतिचक्रवात तंत्र व निचले स्तरों में गर्म व शुष्क हवाओं से तीव्र हीट वेव की परिस्थिति बनी हुई है।

खबरें और भी हैं...