डॉक्टर के समर्थन में आया सीएचसी का स्टाफ:कहा- नोटिस देने पर दर्ज कराया झूठा मामला, एसपी से की निष्पक्ष जांच की मांग

चूरू5 महीने पहले
दूधवाखारा सीएचसी के डॉक्टर के खिलाफ छेड़छाड़ का मामला दर्ज होने के बाद अब दूसरे स्टाफ ने एसपी को ज्ञापन सौंपकर निष्पक्ष जांच की मांग की है।

जिले की दूधवाखारा सीएचसी के डॉक्टर के खिलाफ छेड़छाड़ का मामला दर्ज होने के बाद अब दूसरा स्टाफ डॉक्टर के समर्थन में आ गया है। सीएचसी की एएनएम और जीएनएम ने बुधवार को अस्पताल प्रभारी डॉ. कमल धानिया के समर्थन में एसपी डी आनन्द को ज्ञापन सौंपा। उन्होंने मामले की निष्पक्ष जांच करवाने की मांग की।

सीएचसी की महिला स्टाफ ने डॉक्टर के खिलाफ छेड़छाड़ और वीडियो शेयर करने की धमकी देने का मामला दर्ज कराया था। एसपी को सौंपे ज्ञापन में सीएचसी के दूसरे स्टाफ ने कहा कि डॉ. धानिया कई नोटिस देकर उक्त महिला स्टाफ से जवाब मांगा गया था। उन्होंने बताया कि दूधवाखारा सीएचसी में कार्यरत फार्मासिस्ट और नर्स के बीच काफी दिनों से अफेयर चल रहा था। कई बार दोनों आपत्तिजनक स्थिति में मिले हैं, जिसके पुख्ता सबूत सीएचसी में लगे सीसीटीवी कैमरे की जांच में मिल सकते हैं। इसकी सूचना स्टाफ ने सीएमएचओ रतनगढ़ को भी दी थी। इस पर सीएमएचओ ने कार्रवाई करते हुए फार्मासिस्ट को एपीओ कर रतनगढ़ लगाया था। मगर राजनीतिक दबाव के चलते दूसरे ही दिन वापस सीएचसी में लगा दिया गया।

इसके बाद भी जीएनएम और फार्मासिस्ट अपनी गतिविधियों से बाज नहीं आए। इसके लिए अस्पताल कर्मचारियों ने जीएनएम को समझाया, लेकिन उसने निजी मामले का हवाला देकर दखल नहीं देने की बात कही। फार्मासिस्ट अपनी ड्यूटी के अलावा भी सीएचमसी जीएनएम के साथ रहता है। सीएचसी में कार्यरत जीएनएम की ओर से महिला पुलिस थाने में दर्ज करवाया गया मामला झूठा है। इसकी निष्पक्ष जांच की जानी चाहिए। जब कर्मचारी अपनी ड्यूटी सही ढंग से नहीं करेगा तो उसको नोटिस भी मिलेगा। वहीं, संतोषजनक जवाब देना कर्मचारी का भी दायित्व है। मामले की जांच निष्पक्ष जांच करवाकर डॉ. कमल धानिया को न्याय दिलाया जाए। ज्ञापन देने वालों में एएनएम सुलेख, सुमन, नीतू, किरण, सुनीता, सुभीता व एएनएम सुनीता आदि मौजूद थी।

नर्स ने लगाया डॉक्टर पर छेड़छाड़ का आरोप:वीडियो शेयर करने की दी धमकी, डॉक्टर के खिलाफ मामला दर्ज